तृणपुष्प के ५७५ परिवार दस सालों से घरों से वंचित

बिल्डर ने घर किराया देना भी कर दिया है बंद
समर प्रताप सिंह
 ठाणे। ठाणे के पांचपाखाड़ी में रहनेवाले ५७५ गरीब परिवारों को दस साल बाद भी घर नसीब नहीं हो पाया है। झोपड़ाधार$कों पर दुख का पहाड़ टूट रहा है। $िवकासक ने इन परिवारों को घर किराया देना भी बंद कर दिया है। आखिरकार इन बेघर हुए परिवारो को न्याय दिलाने भाजपा विधायक संजय केलकर ने कमर कस ली है। उन्होंने झोपड़ाधार$कों को विश्वास दिलाया है कि उन्हें हक का घर मिलकर रहेगा। इसके लिए वे हर संभव प्रयास करेंगे।

ठाणे के पांटपाखाड़ी में तृणपुष्प सहकारी निर्माण संस्था की स्थापना वर्ष १९७७ में की गई थी। संबंधित भूखंड क्रमांक ३१५ महाराष्ट्र सरकार के स्वामित्व का है। संस्था का अध्यक्ष कृष्णकांत डोंगरे तथा सचिव रतन बोरीचा हैं। यहां ५७५ से अधिक परिवार रहते हैं। जो गरीब तबके के हैं। बताया गया है कि दस साल पहले पुष्पक डेवलपर्स ने झोपड़पट्टी पुनर्विकास प्र्रस्ताव तैयार कर एसआरडी को प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया। जिसके आलोक में ठाणे मनपा प्रशासन ने १ जुलाई २०१० को उक्त विकास योजना को मंजूरी दे दी थी।

झोपड़ाधारकों को आशा थी कि उसे जल्द अपना घर मिल जाएगा। लेकिन पुष्पक डेवलपर्स ने निर्माण कार्य के प्रति उदासीनता बरती। जिस कारण झोपड़ाधार$कों को चिंता सताने लगी है। इसी बीच कोरोना संक्रमण का दौर सुरू हो गया। झोपड़ाधार$को का आरोप है कि गत चार महीने से बिल्डर ने लोगों को घर किराया देना भी बंद कर दिया है। बिल्डर के कार्यालय से भी संपर्क साधा गया। टलमटोल वाली बात की जाती है।

चिंताग्रस्त झोपड़ा निवासी विरोध आंदोलन करने के मूड में हैं। आखिरकार झोपड़ाधारकों ने न्याय पाने के लिए भाजपा विधायक संजय केलकर से गुहार लगाई। प्रभावित परिवारों की ओर से उन्हें निवेदन दिया गया। निवेदन में कहा गया है कि एक तो बिल्डर निर्माण कार्य पूरा नहीं कर रहा है तो वहीं उन्होंने घर किराया देना भी बंद कर दिया है। झोपड़ाधारकों की मांग है कि इस योजना से विकासक को अलग कर दिया जाए। साथ ही झोपड़पट्टी पुनवि$कास प्र्राधिकरण उसे अपने कब्जे में लेकर निर्माण कार्य पूरा करवाए। ऐसी मांग झोपड़ाधार$कों ने की है.।
विधायक केलकर ने इस ममले को काफी गंभीरता से लिया है। उनका कहना है कि ठाणे शहर में हजारों ऐसे गरीब परिवार हैं जिसे निश्चित समयावधि में हक का घर नहीं मिल पाया है। केलकर ने आश्वासन दिया है कि वे ऐसे परिवारों को न्याय देने के लिए उसके साथ खड़े रहे$गे। यदि विरोध आंदोलन किया गया तो वे भी शामिल होंगे। केलकर ने कहा कि इसी तरह कोपरी में भी दो सहकारी गृहनिर्माण संस्था में शामिल परिवारों को बिल्डर न तो घर दे रहा था और न ही घर किराया। लेकिन उन्होंने इस मामले में तत्काल अधिकारियों से संपर्क साधा। अधिकारी ने उक्त मामले में बिल्डर को नोटिस जारी किया है। केलकर ने कहा कि जब तक तृणपुष्प के निवासियों को घर नहीं मिल जाता है कि वे शांत नहीं बैठेंगे।

Check Also

पालघर जिला सहित मुम्बई के लोगों को बिजली बिल का जबरदस्त झटका

गायत्री साहू नालासोपारा। कोरोना वायरस का प्रकोप मुम्बई सहित महाराष्ट्र में बढ़ता ही जा रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published.