क्विक हील द्वारा ‘कोविड-19 वारियर्स’ के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने वाली आयुर्वेदिक दवा का वितरण

मुंबई: विश्व अर्थव्यवस्था को कोविड-19 की वजह से कई बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। हालांकि, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता, पुलिसकर्मी, स्वच्छता कार्यकर्ताओं, सरकारी कर्मचारी और डिलीवरी कर्मियों और कई अन्य जैसे फ्रंटलाइन पेशेवरों ने ऐसे अशांत समय के दौरान भी अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा करना जारी रखा है। इस तरह के हालातों को देखते हुए, क्विक हील सीएसआर ने हमारे देश के ‘कोविड-19 वारियर्स’ को समर्थन देने के लिए श्री विश्ववती आयुर्वेदिक चिकित्सालय और अनुसंधान केंद्र के साथ साझेदारी की है, जिसके तहत एक लाख से अधिक इम्यूनिटी बढ़ाने वाली आयुर्वेदिक दवा रस माधव वटी का वितरण किया गया है।

औषधीय और हर्बल अर्क से बनाई गई, और खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) से अनुमोदित, यह दवा उन बैक्टीरिया और वायरल संक्रमणों के खिलाफ इम्यूनिटी को मजबूत करती है, जिनकी वजह से सर्दी, खांसी, शरीर में दर्द और थकान जैसी समस्याएं होती हैं। यह दवा खून भी साफ़ करती है, श्वसन प्रणाली बेहतर बनाती है और पाचन में भी सुधार करती है।

क्विक हील टेक्नोलॉजीज़ लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ डॉ. कैलाश काटकर ने कहा, “एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक के रूप में, यह हमारा कर्तव्य है कि हम आगे आकर उन असली योद्धाओं को सुरक्षित रखें जो वायरस के मोर्चे में आगे रहकर देश की सेवा कर रहे हैं। क्विक हील टेक्नोलॉजीज़ में हम श्री विश्ववती आयुर्वेदिक चिकित्सालय और अनुसंधान केंद्र के साथ साझेदारी करके काफ़ी खुश हैं, जिसके साथ हम आयुर्वेदिक दवाओं के ज़रिये ‘कोविड-19 वारियर्स’ को सुरक्षित रखने में योगदान दे रहे हैं। हम हर संभव तरीके से भारत और उसके नायकों की रक्षा के लिए इस तरह की और कोशिशें करते रहेंगे।”

श्री विश्ववती आयुर्वेदिक चिकित्सालय और अनुसंधान केंद्र के अध्यक्ष आनंदनाथ सांगवाडेकर ने कहा, ‘फ़्रंटलाइन कार्यकर्ता लगातार कोविड-19 के खिलाफ लड़ने में अपना जीवन दाव पर लगा रहे हैं। चूंकि वे नियमित रूप से पॉज़िटिव रोगियों के संपर्क में आते हैं, इसलिए उनके संक्रमित होने का खतरा भी काफ़ी ज़्यादा होता है और उनकी ज़िंदगी खतरे में पड़ जाती है। हालांकि, क्विक हील के साथ हमारी अनूठे साझेदारी से, हम अपनी इम्यूनिटी बूस्टर फॉर्मूला रस माधव वटी से उन्हें इस तरह के जोखिमों से बचा सकते हैं। यह श्री विश्ववती आयुर्वेदिक चिकत्सालय और अनुसंधान केंद्र, कोल्हापुर ने विकसित किया है और एक धर्मार्थ विरासत ट्रस्ट इसे संचालित करता है। हमें क्विक हील के साथ साझेदारी करने और अपने नायकों को संकट के समय में आसानी से काम करने में मदद करने की खुशी है।”

Check Also

फोर्स मोटर्स की तरफ से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में, 1000 नए ट्रैवलर एम्बुलेंस की सुविधा

लॉकडाउन में छूट के बाद संक्रमण के मामलों में बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी की संभावना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *