कोविड 19: लेग्रैंड इंडिया ने प्रवासी श्रमिकों के लिए 3500 से अधिक राशन किट दान किए

लोगों को सोशल-डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजिंग की अहमियत के बारे में शिक्षित किया

मुंबई: इलेक्ट्रिकल एवं डिजिटल बिल्डिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में विशेषज्ञ के तौर पर प्रतिष्ठित, लेग्रैंड इंडिया ने चेन्नई, महाराष्ट्र, हरिद्वार, झज्जर और जलगाँव में मैजिकबस फाउंडेशन तथा स्थानीय अधिकारियों के माध्यम से प्रवासी मजदूरों को सूखे राशन किट प्रदान करके उनकी मदद के लिए अपना हाथ बढ़ाया है। कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए, वे मैजिकबस फाउंडेशन के साथ मिलकर प्रवासी मजदूरों को सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन के बारे में जागरूक भी कर रहे हैं।

कोविड-19 के खिलाफ मौजूदा संघर्ष में विभिन्न समुदायों की मदद के लिए, लेग्रैंड इंडिया की ओर से पूरे देश में विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है। इस महामारी का मुकाबला करने के लिए, लेग्रैंड इंडिया ने चेन्नई और महाराष्ट्र में मैजिकबस फाउंडेशन के सहयोग से तथा हरिद्वार, झज्जर और जलगाँव में राज्य सरकार के अधिकारियों के सहयोग से 3500 से मजदूरों के 14 दिनों की भोजन की व्यवस्था के लिए राशन किट प्रदान किए हैं। इसके अलावा, कंपनी ने मैजिकबस फाउंडेशन के साथ मिलकर चेन्नई और भिवंडी में कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए 1550 प्रवासी मजदूरों को सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन के बारे में जागरूक किया है।

समाज के प्रति अपने कर्तव्यों को निभाने की बात की जाए, तो लेग्रैंड इंडिया ने स्वास्थ्य सेवाओं के माध्यम से समाज की सेवा करने पर हमेशा विशेष ध्यान दिया है। लेग्रैंड कोविड-19 की रोकथाम के लिए भी प्रवासी श्रमिकों तथा दिहाड़ी मजदूरों की सहायता कर रहा है तथा उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग एवं सैनिटाइजेशन के बारे में जागरूक किया जा रहा है। कंपनी की टीम ने पूरे देश में कई अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केंद्रों को विद्युत सुरक्षा उपकरण, वायरिंग डिवाइस और यूपीएस जैसे विभिन्न उत्पादों के जरिए सहायता प्रदान की है।

स्वास्थ्य सुविधाओं पर विशेष ध्यान देते हुए, कंपनी ने तमिलनाडु, महाराष्ट्र, दिल्ली और केरल में डॉक्टरों एवं चिकित्सा कर्मचारियों को पीपीई प्रदान किए हैं, ताकि कोविड-19 के खिलाफ इस संघर्ष में सबसे आगे रहने वाले लोगों को सहायता उपलब्ध कराई जा सके।

कोविड-19 के खिलाफ संघर्ष में कंपनी की ओर से दी जा रही सहायता के बारे में लेग्रैंड इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ, श्री टोनी बर्लैंड ने कहा, “एक ऐसे संगठन का हिस्सा होने पर मुझे गर्व है, जहां लोगों और समुदाय की भलाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है। सामाजिक तौर पर एक जिम्मेदार संगठन होने के नाते, लीग्रैंड में हमने अपने कर्मचारियों के साथ-साथ बड़े पैमाने पर समुदाय के लोगों की सेहत और सुरक्षा को हमेशा सबसे ज्यादा अहमियत दी है। हमने महसूस किया कि, प्रवासी मजदूरों और दिहाड़ी मजदूरों के कल्याण के लिए बुनियादी जरूरतों की मांग लगातार बढ़ रही है। हम पूरे देश की राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं, ताकि मौजूदा कमी को दूर

Check Also

अभिनेत्री कनक पाण्डेय और सैकत कुमार के प्रयास से पूर्वांचल वासियों की हुई घर वापसी

 पूरी दुनिया इस समय बहुत कठिन दौर से गुजर रही है। विश्व भर में लोग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *