कोरोना लॉकडाउन के दौरान पश्चिम रेलवे द्वारा 251 पार्सल विशेष ट्रेनों से 38 हज़ार टन अत्यावश्यक सामग्री का परिवहन

 मुंबई। पश्चिम रेलवे विशेष रूप से प्रवासी मजदूरों और देश के विभिन्न हिस्सों में लॉकडाउन के कारण अटके हुए लोगों के लिए विशेष रेलगाड़ियाँ चलाने के अलावा पार्सल विशेष ट्रेनें और मालगाड़ियाँ भी निरंतर चला रही है। उल्लेखनीय है कि पश्चिम रेलवे हमेशा राष्ट्र और लोगों की भलाई के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध रही है और इसीलिए कोरोना लॉकडाउन के इस कठिन समय में, अपनी पार्सल और माल गाड़ियों के साथ पश्चिम रेलवे बड़े पैमाने पर यह सुनिश्चित कर रही है कि अत्यावश्यक वस्तुएं देश भर में उपलब्ध कराई जाती रहें। गौरतलब है कि, 23 मार्च से 21 मई 2020 तक, पश्चिम रेलवे द्वारा 251 पार्सल विशेष गाड़ियों के माध्यम से 38 हज़ार टन से अधिक वजन वाली वस्तुओं का परिवहन किया गया है, जिनमें कृषि उत्पाद, दवाएं, मछली, दूध आदि मुख्य रूप से शामिल हैं।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी रविन्द्र भाकर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इस परिवहन के माध्यम से उत्पन्न आय, लगभग 11.47 करोड़ रुपये रही है। इस परिवहन के तहत, पश्चिम रेलवे द्वारा 31 मिल्क स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं, जिनमें 22,700 टन से अधिक का भार था और वैगनों के 100% उपयोग से 3.91 करोड़ रुपये से अधिक की आय हुई। इसी प्रकार, आवश्यक वस्तुओं के परिवहन के लिए 216 कोविड -19 विशेष पार्सल ट्रेनें भी चलाई गईं, जिनके लिए अर्जित राजस्व लगभग 6.78 करोड़ रुपये रहा। इनके अलावा, लगभग 78 लाख रु. की आय के लिए 100% उपयोग के साथ 4 इंडेंटेड रेक भी चलाए गए। भाकर ने बताया कि 22 मार्च से 21 मई, 2020 तक पार्सल विशेष गाड़ियों के अलावा, कुल 4333 रेक मालगाड़ियों का भी उपयोग किया गया है, जिनके माध्यम से 8.65 मिलियन टन आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित की गई। 8605 मालगाड़ियों को अन्य रेलवे के साथ जोड़ा गया, जिसमें 4335 ट्रेनें सौंपी गईं और 4270 ट्रेनों को अलग-अलग इंटरचेंज पॉइंट पर ले जाया गया। पार्सल वैन / रेलवे दूध टैंकरों (आरएमटी) के 252 मिलेनियम पार्सल रेकों को आवश्यक सामग्री जैसे दूध पाउडर, तरल दूध, चिकित्सा आपूर्ति और अन्य सामान्य उपभोक्ता वस्तुओं की मांगों का सामना करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में भेजा गया है।

भाकर ने बताया कि 22 मई, 2020 को देश के विभिन्न हिस्सों के लिए पश्चिम रेलवे से कुल पाॅंच पार्सल विशेष ट्रेनें रवाना हुईं, जिनमें पोरबंदर- शालीमार, बांद्रा टर्मिनस – लुधियाना, भुज – दादर, कांकरिया – फतुहा और करम्बेली – नई गुवाहाटी विशेष गाड़ियॉं शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मार्च, 2020 के बाद से उपनगरीय और गैर-उपनगरीय सहित सम्पूर्ण पश्चिम रेलवे पर कुल कमाई में लॉकडाउन के कारण अनुमानित घाटा 971.42 करोड़ रुपये रहा है। इसके बावजूद, अब तक टिकटों के निरस्तीकरण के परिणामस्वरूप, पश्चिम रेलवे ने 278.78 करोड़ रुपये की रिफंड राशि वापस करना सुनिश्चित किया है। गौरतलब है कि इस रिफंड राशि में अकेले मुंबई डिवीजन ने 134.17 करोड़ रुपये का रिफंड सुनिश्चित किया है। अब तक, 42.86 लाख यात्रियों ने पूरी पश्चिम रेलवे पर अपने टिकट रद्द कर दिए हैं और तदनुसार उनकी वापसी राशि प्राप्त की है।

Check Also

उत्तराखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और दक्षिण राजस्थान में अलग-अलग भारी बारिश की संभावना

मौसम से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें  1. केंद्रीय अरब सागर, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल, दक्षिण-पश्चिम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *