नीलकमल ने कोविड-19 संकट के खिलाफ जंग में एमएमआरडीए से साझेदारी की

 बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स (बीकेसी) में रिकॉर्ड समय में 1000 बेड का अस्थायी अस्पताल बनाने में मदद की
 मुंबई : फर्नीचर ब्रांड, नीलकमल ने कोविड-19 संकट के खिलाफ जंग के लिए अस्थायी इमरजेंसी अस्पताल बनाने में मदद के लिए महाराष्ट्र सरकार और मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (MMRDA) के साथ साझेदारी की। नीलकमल इस साझेदारी के तहत इस अस्पताल में 1000 कोविड क्वॉरंटीन बेड्स, गद्दों और दूसरे फर्नीचर की सप्लाई कर रहा है। यह अस्पताल भारत में अपनी तरह का पहला अस्पताल है, जिसे 2 हफ्ते के रिकॉर्ड समय में बनाया गया है। अस्पताल में बिस्तरों समेत सारा इंफ्रास्ट्रक्चर मरीजों की सुविधा और आराम को ध्यान में रखते हुए विकसित किया गया है।

नीलकमल ने कोविड क्वॉरंटीन बेड बनाने के लिए नए स्टेकेबल बेड डिजाइन को अपनाया है। यह ब्रांड की डिजाइन और डिवेलपमेंट टीम की मेहनत और समर्पण का नतीजा है। MMRDA और नीलकमल इस क्षेत्र में व्यावाहरिक और अमल में लाने योग्य समाधान के साथ सामने आए हैं। कोविड-19 के खिलाफ जंग में अस्थायी अस्पताल की स्थापना के लिए घर से काम करने की चुनौती के बाद भी दोनों साझीदारों ने दिन-रात काम किया है। किफायती और सस्ते होने के साथ ही यह बेड इस्तेमाल के लिए बिल्कुल तैयार हैं। इसमें आपको प्रॉडक्ट को असेंबल करने का बोझिल काम नहीं करना पड़ता। ये बेड इस्तेमाल में आसान हैं। इन्हें स्टोर किया जा सकता है और एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है। यह बेड तरह-तरह से इस्तेमाल की जा सकने वाली कैबिनेट के साथ आते हैं। इससे यूजर्स को कई तरह की सुविधा मिलती है। इसमें कोई सामान रखा जा सकता है। इसे खाना खाने के लिए या बेड के साइड में रखी हुई टेबल के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

नीलकमल लिमिटेड में वीपी ऑपरेशंस, अजय अग्रवाल ने इस पहल पर कहा, “मुंबई के नागरिकों की तरफ से हम MMRDA को धन्यवाद देना चाहते हैं। MMRDA ने बहुत कम समय में बेहद कुशलता से विशालकाय अस्थायी अस्पताल का निर्माण किया है। MMRDA ऑपरेशंस कमिटी की तेजी से फैसले लेने, स्पष्ट विजन, बेस्ट क्वॉलिटी की सख्त मांग और समय से काम पूरा करने का जबर्दस्त दबाव इस बेहतरीन अस्थायी अस्पताल के निर्माण में साफ झलकता है। इस प्रोजेक्ट को रिकॉर्ड समय में पूरा किया गया है, जिसमें मरीजों की हर तरह की सुख-सुविधाओं पर खासा ध्यान दिया गया है। हम MMRDA के बहुत आभारी हैं कि उन्होंने हमारी क्षमता पर विश्वास किया और हमें इस महत्वपूर्ण काम में अपनी भागीदारी निभाने का मौका दिया। हमें अपनी टीम पर बेहद गर्व है कि कई चुनौतियों और सीमाओं के बावजूद हम इस परियोजना को सफलता से और समय से पहले पूरा करने में सक्षम हुए हैं। हम कोविड-19 के खिलाफ जंग में महाराष्ट्र सरकार, MMRDA और सभी संस्थाओं के साथ काफी मजबूती से खड़े हैं।“

देश भर में झारखंड, सोलापुर, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और ठाणे के विभिन्न अस्पतालों में भी नीलकमल के क्वॉरंटीन और आइसोलेशन बेड्स का इस्‍तेमाल पहले से किया जा रहा है। इसके अलावा, अलग-अलग जगहों पर भी कई दूसरे बेड्स इंस्टाल किये जा रहे हैं। कोविड-19 के खिलाफ जंग में सहयोग के लिए नीलकमल ने कई दूसरे एक्सक्लूसिव प्रॉडक्ट्स भी लॉन्च किए हैं। इसमें हैंडवॉश स्टेशन, वायरसगार्ड पार्टिशंस और ट्रैवलगार्ड पार्टिशंस शामिल हैं। इसी कड़ी में हाल ही में कंपनी ने क्विक कोविड बेड भी लॉन्च किया है, जो काफी सस्ता है। इसे असेंबल और इंस्टाल करने में 5 मिनट से भी कम का समय लगता है।

Check Also

मैनकाइंड फार्मा ने रियल-लाइफ हीरो ज्योति कुमारी को किया सपोर्ट, दी एक लाख की मदद

  दुनिया भर में फैले कोविड-19 संकट के बीच अपना अस्तित्व कायम रखने के संघर्ष …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *