कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने के उपाय

डॉ. मुकेश संकलेचा

पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस बीमारी से झुंज रही है। चीन में दिसंबर 2019 में शुरू हुई इस बीमारी के कहर ने कई जानें भी ली हैं। हाल ही में भारत में नयी कोरोना वायरस केसेस सामने आयी हैं, जिससे कुल संक्रमणों की संख्या 100 से ऊपर चली गयी है।

कोरोना वायरसेस विषाणुओं का एक बड़ा परिवार है जो कई बिमारियों का कारण बनते हैं। इन बिमारियों में साधारण सर्दी-जुकाम से लेकर मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (मर्स-सीओवी) और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स-सीओवी) भी शामिल हैं।

नियमित तौर पर हाथ धोना महत्वपूर्ण है

इस बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपाय करना जरुरी है, जैसे कि नियमित रूप से हाथों को धोना, खांसते या छींकते समय मुँह और नाक को ढ़कना, मांस और अंडें पूरे पकाकर ही खाना।

मैं इस बात पर जोर देता आया हूँ कि बुखार, खांसी, सांस फूलना और दस्त यह वे चार महत्वपूर्ण लक्षण हैं जिनके बारे में हमें चिंता करनी चाहिए। दिलचस्प बात यह है, ठंड और एक बहती हुई नाक यह लक्षण इस रोग की संभावना को दर्शाने करने वाले लक्षणों की सूची में बहुत नीचे हैं।

कोरोना वायरस फैलने की जोखिम को कम करने के लिए हमें चार प्रमुख कदम उठाने होंगे:

बार-बार हाथ धोना
हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करना
हाथ धोने का सही तरीका अपनाना
हैंड सैनिटाइज़र का सही इस्तेमाल करना

खाना पकाने और खाना खाने के पहले और बाद में, कच्चे खाद्य पदार्थ को छूने के बाद और जब जब आपके हाथ गंदे हो तब तब हर बार आपको अपने हाथ धोने चाहिए। खांसने या छींकने, बीमार लोगों से मिलने, शौचालय का उपयोग करने के बाद और जानवरों को छूने के बाद भी आपको अपने हाथ धोने चाहिए।

अच्छी बात है कि बाजार में अच्छे हैंड-वाश उपलब्ध हैं। उदाहरण के तौर पर, गोदरेज प्रोटेक्ट हाथों को नुकसान नहीं पहुंचाता और इसमें ग्लिसरीन और इसेंशियल ऑयल्स होते हैं। गोदरेज ने मिस्टर मैजिक हैंड-वॉश भी लाया है, यह पहला हैंड-वॉश पाउडर है जिसे लिक्विड बनाया जा सकता है, इसमें नीम और एलोवेरा की शक्ति है, यह आपके हाथों को कीटाणुओं से बचाता है और आपकी त्वचा को कोमल बनाए रखता है। दुनिया में यह इस तरह का पहला हैंड-वाश है और बहुत ही किफायती है। यह साबुन की तरह सस्ता है, फिर भी स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए कई ज्यादा लाभकारी है। ऐसी बीमारियों की शुरुआत को रोकने के लिए हैंड सैनिटाइजर भी महत्वपूर्ण हैं।

खतरों के बारे में जागरूक रहें

ऐसी बीमारियों के फैलाव को रोकने के सही तरीकें सभी को मालूम होना बहुत जरुरी है। जब भी संभव हो तब गुनगुने पानी और साबुन से हाथ धोएं। हैंड-वाश से हाथ धोना किसी भी बीमारी के विषाणु के फैलाव को लक्षणीय मात्रा में कम कर सकता है।

20 सेकंड के लिए साबुन को हाथों पर मलना महत्वपूर्ण है। जैसा कि मैं अक्सर कहता हूं, ‘हैप्पी बर्थडे’ दो बार गाने के लिए जितना समय लगता है उतने समय तक हाथों को अच्छी तरह से मलना चाहिए। उंगलियों और नाखूनों के बीच की जगह को साफ करें और फिर अपने हाथों को टिश्यू से पोंछ लें। उसके बाद नल बंद करने के लिए आप इस टिश्यू का इस्तेमाल कर सकते है, आखिर में टिश्यू को कचरे में डालना न भूलें।

हैंड सैनिटाइजर के सही उपयोग के लिए तीन बातों पर ध्यान दें: हाथों पर डालना, रगड़ना और पूरी तरह से सूखने तक रुकना।

बच्चें हर बार हाथों को सही तरीके से नहीं धोएंगे, इसलिए सैनिटाइजर का उपयोग उनके लिए बहुत मायने रखता है। बच्चों और वयस्कों दोनों के लिए कुछ भी खाने से पहले हाथों को साफ करना बहुत जरुरी है। साथ ही कच्चे या बिना पके भोजन से परहेज करना और मांस बाजारों से बचना आदि अन्य निवारक उपायों से भी आप इस बीमारी को दूर रख सकते हैं।

(डॉ मुकेश संकलेचा एक ख्यातनाम बाल रोग विशेषज्ञ है और संक्रामक रोगों पर उनका विशेष अभ्यास है। बॉम्बे हॉस्पिटल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के कंसल्टेंट बाल रोग विशेषज्ञ पिछले 25 वर्षों से प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे है।)

Check Also

कोविड-19: लोगों को गांवों में जागरूक करने उतरा सीएसआईआर

 नई दिल्ली। वैज्ञानिक व औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने लोगों में कोरोना वायरस की महामारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *