Saturday , December 14 2019
Home / घर-संसार / स्वास्थ्य / केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हितधारकों से एक समयबद्ध तरीके से ब्लूप्रिंट को लागू करने की मांग की

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हितधारकों से एक समयबद्ध तरीके से ब्लूप्रिंट को लागू करने की मांग की

हितधारकों से एक समयबद्ध तरीके से राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य ब्लूप्रिंट (एनडीएचबी) को लागू करने की दिशा में काम करने की मांग करते हुए, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत सरकार सभी दूरस्थ स्थानों तक उच्च गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। डिजिटल स्वास्थ्य क्रियाकलापों से इस सुधार में तेजी आ रही है और इसके फलस्वरूप व्यापक स्वास्थ्य सुविधा में समर्थन की अत्यधिक संभावना है। भारतीय राष्ट्रीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) के पूर्व अध्यक्ष और राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य ब्लूप्रिंट (एनडीएचबी) समिति के अध्यक्ष  श्री जे. सत्यनारायण ने आज नई दिल्ली में डॉ. हर्षवर्धन को एनडीएचबी की अंतिम रिपोर्ट सौंप दी।

श्री जे. सत्यनारायण ने उन प्रयासों के बारे में संक्षिप्त रूप से चर्चा की, जिनके परिणामस्वरूप एनडीएचबी की रिपोर्ट तैयार हुई। उन्होंने एनडीएचबी के प्रस्ताव के अनुसार कार्यक्रम को संक्षिप्त रूप से प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 में स्वास्थ्य सुविधा के क्षेत्र से जुड़ी प्राथमिकताओं को शामिल किया था और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की इस सुझाव रिपोर्ट ने इसे पूरा करने की दिशा में मार्ग सुझाए हैं। उन्होंने कहा कि इसे व्यापक स्वास्थ्य सुविधा कवरेज के लक्ष्य तक पहुंचने की दिशा में भारत सरकार का सबसे बड़ा कदम माना जा सकता है, जिसमें डिजिटल स्वास्थ्य सुविधा घटक पर जोर दिया जा रहा है।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आज समय की आवश्यकता एक ऐसी पारिस्थितिकी प्रणाली बनाने की है, जो वर्तमान विषम स्वास्थ्य सूचना प्रणाली को एकीकृत कर सकती है और आगामी कार्यक्रमों के लिए रास्ता दिखा सकती है। मजबूत और प्रभावी तरीके से स्वास्थ्य सेवाओं को प्रदान करने और उनकी निगरानी के लिए सूचना प्रौद्योगिकी प्रणालियों में तालमेल सुनिश्चित करने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य रूपरेखा (एनडीएचपी) के अंतर्गत व्यापक राष्ट्रव्यापी एकीकृत ई-स्वास्थ्य प्रणाली की दिशा में प्रयास किया है।

एनडीएचपी स्वास्थ्य क्षेत्र में वर्तमान एप्लीकेशनों और भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं तथा निजी स्वास्थ्य सुविधाओं में साइलो में पड़े डाटा को एकीकृत करने के लिए साझा प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने में सहायता देगी। नीति आयोग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा ‘नेशनल हेल्थ स्टैक’ (एनएचएस) के प्रारम्भिक दस्तावेज में समय-सीमा, लक्ष्यों तथा भारत में स्वास्थ्य कार्यक्रमों के डिजिटल तालमेल के लिए संसाधन की आवश्यकताओं को स्पष्ट रूप से परिभाषित किया गया है।

इस अवसर पर डॉ. हर्षवर्धन ने डिजिटल भारत कार्यक्रम के अंतर्गत प्रत्येक व्यक्ति के दरवाजे पर सेवाएं देने के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के विजन की चर्चा की और आशा व्यक्त की कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के कार्यक्रमों के साथ एनडीएचबी लागू करने से प्रत्येक व्यक्ति को लाभ मिलेगा।

उन्होंने भारत को डिजिटल स्वास्थ्य देखभाल अर्थव्यवस्था में बदलने के व्यापक कार्यक्रम तैयार करने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की सचिव प्रीति सूदन तथा जे. सत्यनारायण को बधाई दी और सभी हितधारकों से समय-सीमा के अंदर रूपरेखा को लागू करने की दिशा में मिल-जुलकर काम करने का आग्रह किया।

इस अवसर पर एनआईसी की महानिदेशक डॉ. नीता वर्मा, नीति आयोग में सलाहकार (स्वास्थ्य) आलोक कुमार तथा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Check Also

डायबिटीज नियंत्रण के संदर्भ में महिलाओं की स्थिति पुरुषों से काफी बेहतर है

मेट्रोपोलिस के अध्ययन से पता चलता है कि, 50-60 आयु वर्ग में नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की संख्या सबसे अधिक है मुंबई, 13 नवंबर, 2019: मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर ने पिछले 5 सालों में मुंबई में HbA1c के कुल 532182 नमूनों का परीक्षण किया, जिनमें से अधिकतम 25% मरीजों को नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाया गया। नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की सबसे ज्यादा संख्या 50-60 आयु वर्ग (लगभग 32%) में पाई गई, जिसके बाद 60-70 वर्ष (लगभग 29%) और 40-50 वर्ष (27.6%) के लोगों का स्थान आता है। ऐसे मामलों की सबसे कम संख्या 20-30 वर्ष (10%) के आयु वर्ग में पाई गई, लेकिन यह धीरे-धीरे बढ़ते हुए 50-60 आयु वर्ग में उच्चतम स्तर तक पहुंच गया। इसके बाद बुजुर्ग लोगों के आयु समूहों में लगातार गिरावट देखी गई। दिलचस्प बात यह है कि, परीक्षण की गई सभी महिलाओं में से 22.7% नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाई गईं, जबकि पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 28% है। मुंबई में कंपनी के ग्लोबल रेफरेंस लैबोरेट्री में जांच किए गए आधे मिलियन से अधिक नमूनों में से लगभग 23% नमूने प्री-डायबिटिक स्टेज में पाए गए, लगभग 29% नमूने डायबिटिक पाए गए, जबकि 22.6% नमूने नॉन-डायबिटिक थे। HbA1c के लिए जांचे गए लगभग 25% नमूनों में से लगभग 8% में इसका स्तर अधिक पाया गया, जिसका मतलब है कि उनका ब्लड ग्लूकोज़ लेवल नियंत्रित नहीं है। अगर मरीज के ब्लड ग्लूकोज़ का लेवल लंबे समय तक उच्चतम रहे, तो इससे डायबिटीज से जुड़ी जटिल समस्याओं के पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। (कृपया नीचे की तालिका में दिए गए आंकड़ों पर ग़ौर करें।) मुंबई में HbA1c के लिए जांचे गए 532182 नमूनों का विश्लेषण आयु वर्ग सामान्य प्री–डायबिटिक डायबिटिक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *