Home / Headline / सिनेमा को समझने का मौका ‘मामी फिल्म फेस्टिवल’

सिनेमा को समझने का मौका ‘मामी फिल्म फेस्टिवल’

प्रमोद कुमार 

 मुंबई। फिल्म फेस्टिवल एक तरफ प्रतिभाओं के प्रदर्शन के लिए मंच बनते हैं, तो दूसरी तरफ सिनेमा के अन्तर्गत पहलुओं को जानने – समझने का माध्यम भी बनते हैं। इस समय मुंबई में 21वां मामी फिल्म फेस्टिवल चल रहा है, जहां बॉलीवुड की मशहूर हस्तियां अपने अनुभव शेयर कर रही हैं।

फेस्टिवल में अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने अपनी कुछ बेहतरीन फिल्मों की यादों को साझा किया। दीपिका ने सबसे पहले अपने पहली फिल्म ओम शांति ओम के बारे में बताया कि पहले दिन जब वह शाहरुख से मिली तो वह खुद की छवि को लेकर बहुत चिंतित थी। उन्होंने कहा, मैं शाहरुख के सामने खुद को एक हीरोइन के तौर पर पेश करना चाहती थी। उन्होंने कहा कि शाहरुख पहले फिल्म के बारे में सोचते हैं फिर किसी और चीज के बारे में। फिल्म के लिए वह हर स्थिति में काम कर सकते हैं।

दीपिका ने फिल्म रामलीला में काम करने का अपना अनुभव साझा किया। दीपिका ने इस फिल्म की यादों को शेयर करते हुए कहा, फिल्म में कुछ सीन्स में, मैं रणवीर पर गुस्सा करती हूं और चिल्लाती भी हूं जो मेरे लिए मुश्किल था क्योंकि मेरे दिल में कुछ और चल रहा था और मैं बोल कुछ और रही थी।

संजय लीला भंसाली पर बात करते दीपिका ने बताया कि रंग लगा दे गाना हमने पूरा शूट कर लिया था लेकिन तभी भंसाली सर ने मुझे बुलाया और इस गाने को नए कॉस्टयूम के साथ दोबारा शूट करने को कहा। यहां तक कि कई बार वह सेट पर ही पूरा सीन बदल कर मुझे नए डायलॉग्स दे दिया करते थे जिसे मुझे तुरंत तैयार कर शूट करना होता था। मुझे खुद पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं था कि मैं बिना तैयारी के यह सीन शूट कर सकती हूं। हालांकि भंसाली को मुझ पर पूरा विश्वास था। इस तरह, शूटिंग के दौरान भंसाली हमेशा कुछ ना कुछ बदलाव कराते रहते थे।

मामी फिल्म फेस्टिवल में सिंगर सोना महापात्रा की डॉक्यूमेंट्री ‘शट अप सोना’ का प्रीमियर आज निर्धारित है। इसमें देश में महिलाओं के वर्तमान हालातों को सामने रखा जाएगा।90 मिनट की यह डॉक्यूमेंट्री दीप्ति गुप्ता ने डायरेक्ट की है, जिसका प्रोडक्शन खुद सोना ने किया है। इस बाबत सोना ने एक पोस्ट इंस्टाग्राम पर शेयर करते हुए लिखा है – ‘शट अप सोना’ का सफर तीन साल पहले शुरू हुआ था। जिसमें कई यात्राएं हुईं और कई खोजें भी। इसका पूरा क्रेडिट मेरे संगीत के सफर को जाता है। मेरे इसी सफर शट अप सोना की कुछ झलकियां।

Check Also

जनजातियों और वनवासियों के अधिकार पूरी तरह सुरक्षित रखे जाएंगे: प्रकाश जावड़ेकर

सरकार ने वन अधिनियम 1927 में संशोधन के मसौदे को वापस लेने का फैसला किया ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *