Saturday , December 14 2019
Home / घर-संसार / स्वास्थ्य / Onco.com को ऑनलाइन कैंसर गाइडेंस टेक्‍नोलॉजी के लिए अमेरिकन सोसाइटी ऑफ क्लीनिकल ऑन्कोलॉजी से मिला वैश्विक सम्‍मान

Onco.com को ऑनलाइन कैंसर गाइडेंस टेक्‍नोलॉजी के लिए अमेरिकन सोसाइटी ऑफ क्लीनिकल ऑन्कोलॉजी से मिला वैश्विक सम्‍मान

 कैंसर के रोगियों को अंतरराष्ट्रीय मानकों अनुसार इलाज के संबंध में मार्गदर्शन देकर उनकी मदद करने के लिए, Onco.com की महत्‍वपूर्ण टेक्‍नोलॉजी ऑनलाइन कैंसर पेशेंट असिस्टेंट पाथवे (OCAPP™) को विश्व स्तर पर सम्मानित किया गया। थाइलैंड के बैंकॉक में 11 से 13 अक्टूबर 2019 तक आयोजित अमेरिकन सोसाइटी ऑफ क्लीनिकल ऑन्कोलॉजी (ASCO) : ब्रेकथ्रू ए ग्लोबल समिट फॉर ऑन्कोलॉजी इनोवेटर्स कॉन्फ्रेंस में Onco.com को यह सम्‍मा‍न मिला। ASCO ब्रेकथ्रू समिट में एक ही मंच पर नई-नई तकनीक से कैंसर से इलाज, इस क्षेत्र में हुए वैज्ञानिक आविष्कार और भविष्य में कैंसर का इलाज करने के लिए मौजूदा परंपरागत तकनीक बदलने पर चर्चा की गई।

ASCO ब्रेकथ्रू समिट में Onco.com के सह संस्थापक और चिकित्सा संबंधी मामलों के प्रमुख डॉ. अमित जोतवानी के रिसर्च टॉपिक को विश्व के तमाम विशेषज्ञों की ओर से जमा कराए गए शोध प्रबंध में बेहतरीन माना गया। Onco.com की ओर से “विकासशील देशों में कैंसर के मरीजों को इलाज संबंधी मार्गदर्शन देने के लिए ऑनलाइन कैंसर पेशेंट असिस्टेंट पाथवे (OCAPP™) टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म के विकास” पर शोध प्रबंध पेश किया गया।

Onco.com की ओर से प्रस्‍तुत OCAPP™ प्लेटफॉर्म कैंसर के इलाज के संबंध में सही और उपयोगी जानकारी प्रदान कर इलाज के दौरान रोगियों और उनके परिजनों की मदद करने वाली विश्व की यह इकलौती और एकमात्र सेवा है। इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से कोई भी मरीज और उनकी देखभाल करने वाले परिजन Onco.com पर जा सकते हैं। उन्हें यहां मरीज के संबंध में मूल जानकारी देनी होती है। जैसे मरीज के कैंसर से प्रभावित अंग कौन-कौन से हैं, उसके रोग की स्टेज क्या है, मरीज की इस समय क्या स्थिति है और उसका अब तक क्या इलाज गया है आदि। यह सब जानकारी हासिल करने के बाद Onco.com से अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार इलाज के संबंध में उचित मार्गदर्शन दिया जाता है। Onco.com की दुनिया भर के कैंसर विशेषज्ञों या डॉक्टरों की टीम की ओर से तैयार नॉलेज डेटाबेस से यह जानकारी दी जाती है।

डॉ. जोतवानी ने कहा, “कैंसर के क्षेत्र में दुनिया भर में मशहूर और प्रतिष्ठित संस्था ASCO की ओर से पहचान मिलना हमारे लिए बड़ी उपलब्धि है। कैंसर के क्षेत्र में यह हमारे प्लेटफॉर्म की ओर से किए जा रहे बेहतरीन कार्यों का एक प्रमाणपत्र है। हमारा लक्ष्य विकासशील देशों में कैंसर के रोगियों की देखभाल के क्षेत्र में कमियों को दूर करना है। इसके अलावा हम इलाज के नवीनतम तरीकों और प्रोटोकॉल के अनुसार डॉक्टरों को किसी खास मरीज के इलाज का तरीका बताने में मदद करते हैं। हमें बेहद गर्व है कि हमारे द्वारा सुझाए गए रिसर्च के विषय का एएसटीओ की अवॉर्ड कमिटी ने चयन किया। इससे हमें यह हौसला मिला है कि हम कैंसर के मरीजों के लिए सही जानकारी प्रदान करने के अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।“

हाल ही में सामने आए आंकड़ों के अनुसार भारत में कैंसर के 30 लाख रोगी हैं। इसमें हर साल 15 लाख नए मरीज और जुड़ते हैं। 2022 तक यह संख्या 20 लाख तक पहुंच जाएगी। हालांकि विकसित देशों की तुलना में विकासशील देशों पर कैंसर के मरीजों का बोझ कम हैं, कैंसर की वजह से होने वाली मौतों में विकासशील देशों का अनुपात विश्‍व में से 70% से अधिक है। क्लिनिकल ऑन्कोलॉजी वर्कफोर्स 2018 के ग्लोबल सर्वे के अनुसार विकासशील देशों जैसे भारत में हर 10,000 कैंसर के मरीजों के लिए केवल 1 से 5 प्रशिक्षित कैंसर के विशेषज्ञ डॉक्टर हैं, जबकि विकसित देशों में मरीजो की इतनी ही संख्या के लिए 50 से 100 डॉक्टर हैं। इसी तरह इस अनुपात के अनुसार विकासशील देशों में एक डॉक्टर के पास 700 से 10 हजार तक मरीज आते हैं, जबकि विकसित देशो में डॉक्टरों के पास 200 मरीज आते हैं।

कैंसर के मरीजों के इलाज के क्षेत्र में इन चुनौतियों और रुकावटों को देखते हुए OCAPPTM लाखों कैंसर रोगियों की मदद कर सकता है। वह मरीजों की प्रशिक्षित कैंसर विशेषज्ञों तक पहुंच मुहैया करा सकता है और उन्हें उनके इलाज के विकल्पों को बेहतर ढंग से समझा सकता है।

Onco.com की सहसंस्थापक और सीईओ राशि जैन ने बताया, “हमारा प्लेटफॉर्म भारत और अमेरिका के मशहूर कैंसर विशेषज्ञ डॉक्टरों के लंबे-चौड़े नेटवर्क से मरीजों को इलाज संबंधी व्यक्तिगत सलाह देता है।OCAPP™ की यह पहल इंटरनेट एक्सेस के साथ हर मरीज तक पहुंचने की है। अभी तक 25 हजार से ज्यादा मरीज इस सुविधा का लाभ उठा चुके हैं। इस संख्या में बड़ी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है, जो इस तरह के प्लेटफॉर्म की जरूरत का संकेत हैं।“

कॉन्फ्रेंस में अपनी स्टडी पेश करने के अलावा डॉ. अमित जोतवानी को ASCO की 2019 कॉन्‍कर कैंसर फाउंडेशन के मेरिट अवाडर्स से सम्मानित किया जा चुका है। यह संस्था कैंसर विशेषज्ञ डॉक्टरों के कैंसर के इलाज के संबंध में किए गए नए-नए शोध कार्यों और आधुनिक तकनीक को पहचान देकर उन्हें सम्मानित करती है।

Check Also

डायबिटीज नियंत्रण के संदर्भ में महिलाओं की स्थिति पुरुषों से काफी बेहतर है

मेट्रोपोलिस के अध्ययन से पता चलता है कि, 50-60 आयु वर्ग में नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की संख्या सबसे अधिक है मुंबई, 13 नवंबर, 2019: मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर ने पिछले 5 सालों में मुंबई में HbA1c के कुल 532182 नमूनों का परीक्षण किया, जिनमें से अधिकतम 25% मरीजों को नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाया गया। नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की सबसे ज्यादा संख्या 50-60 आयु वर्ग (लगभग 32%) में पाई गई, जिसके बाद 60-70 वर्ष (लगभग 29%) और 40-50 वर्ष (27.6%) के लोगों का स्थान आता है। ऐसे मामलों की सबसे कम संख्या 20-30 वर्ष (10%) के आयु वर्ग में पाई गई, लेकिन यह धीरे-धीरे बढ़ते हुए 50-60 आयु वर्ग में उच्चतम स्तर तक पहुंच गया। इसके बाद बुजुर्ग लोगों के आयु समूहों में लगातार गिरावट देखी गई। दिलचस्प बात यह है कि, परीक्षण की गई सभी महिलाओं में से 22.7% नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाई गईं, जबकि पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 28% है। मुंबई में कंपनी के ग्लोबल रेफरेंस लैबोरेट्री में जांच किए गए आधे मिलियन से अधिक नमूनों में से लगभग 23% नमूने प्री-डायबिटिक स्टेज में पाए गए, लगभग 29% नमूने डायबिटिक पाए गए, जबकि 22.6% नमूने नॉन-डायबिटिक थे। HbA1c के लिए जांचे गए लगभग 25% नमूनों में से लगभग 8% में इसका स्तर अधिक पाया गया, जिसका मतलब है कि उनका ब्लड ग्लूकोज़ लेवल नियंत्रित नहीं है। अगर मरीज के ब्लड ग्लूकोज़ का लेवल लंबे समय तक उच्चतम रहे, तो इससे डायबिटीज से जुड़ी जटिल समस्याओं के पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। (कृपया नीचे की तालिका में दिए गए आंकड़ों पर ग़ौर करें।) मुंबई में HbA1c के लिए जांचे गए 532182 नमूनों का विश्लेषण आयु वर्ग सामान्य प्री–डायबिटिक डायबिटिक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *