Wednesday , January 29 2020
Home / सामाजिक/सांस्कृतिक / अपने सभी कार्यालयों में सिंगल यूज प्लास्टिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल घटाएंगे स्टार और डिज्नी इंडिया

अपने सभी कार्यालयों में सिंगल यूज प्लास्टिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल घटाएंगे स्टार और डिज्नी इंडिया

 मुंबई । स्टार और डिज्नी इंडिया ने अपने कार्यालयों में एकल उपयोग वाले प्लास्टिक के उपयोग में कटौती के लिए प्रतिबद्धता जाहिर की है। कंपनी हमेशा ही अपने कार्बन फुटप्रिंट को कम करने और पर्यावरण पर पड़ने वाले असर को लेकर बेहद सचेत रही है।

वॉल्ट डिज्नी कंपनी एपीएसीए के चेयरमैन और स्टार एंड डिज्नी इंडिया के प्रेसिडेंट उदय शंकर ने कहा, ‘स्टार और डिज्नी इंडिया में हम हमेशा एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक होने में विश्वास करते हैं और इस छोटे से कदम से हम एक अधिक टिकाऊ जीवन शैली को प्रेरित करना चाहते हैं। आज दुनिया के महासागरों में प्लास्टिक अपशिष्ट एक महामारी बन कर छा गया है, औसतन एक वर्ष में 9 मिलियन टन से अधिक प्लास्टिक कचरा डंप कर दिया जाता है, जिसमें से 40 फीसदी हिस्सा सिंगल यूज प्लास्टिक का होता है, जिसे एक बार के इस्तेमाल के बाद फेंक दिया जाता है। एक काॅर्पोरेट के रूप में आने वाले भविष्य को बेहतर करने के लिए कदम उठाने का यही सही समय है।’

 अपने इस निर्णय के एक हिस्से के रूप में स्टार और डिज्नी इंडिया ने अपने कार्यालय परिसर में एकल.उपयोग प्लास्टिक के विकल्प पेश किए हैं। पहले ही यहां चाय सर्व करने के लिए प्लास्टिक के कप की बजाय पेपर के कप काम में लिए जाते हैं, टी और काॅफी सैशे को भी पेपर सैशे के साथ बदल दिया गया है, अम्ब्रेला के लिए बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक के रैपर काम में लिए जाते हैं। इसके अलावा प्लास्टिक की बोतलों को तत्काल प्रभाव से कांच के जार में बदल दिया गया है।

2 अक्टूबर, 2019 को स्टार नेटवर्क के हिस्से नेशनल ज्योग्राफिक चैनल ने ‘प्लेनेट ओर प्लास्टिक?’ प्रतिज्ञा को लॉन्च किया। यह जागरूकता बढ़ाने और देश भर के लोगों को एकल उपयोग प्लास्टिक की दबाव समस्या को संबोधित करने के उद्देश्य से एक प्रतिज्ञा लेने के लिए प्रोत्साहित करने की एक पहल थी। इस पहल को सोशल मीडिया पर 47000 ट्वीट्स और 881 मिलियन इम्प्रेशन के साथ जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली। इस संकल्प के तहत पहले 24 घंटों में प्लास्टिक की 25 मिलियन वस्तुओं को कम करने की प्रतिबद्धता सामने आई। 2012 में स्टार ने अपनी कंटेंट को टेप से क्लाउड पर स्थानांतरित करके डिजिटल प्रसारण ईको सिस्टम का बीड़ा उठाया और उल्लेखनीय रूप से अपने कार्बन फुटप्रिंट को काफी कम करने की तरफ कदम बढाए।

Check Also

मुझे नहीं, बनारस घराने के संगीत को मिला पद्मविभूषण: पं. छन्नू लाल मिश्र

  वाराणसी। बनारस गायकी और ठुमरी गायकी के सशक्त हस्ताक्षर पं. छन्नूलाल मिश्र को पद्मविभूषण ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *