Home / Headline / भारत चीन वार्ता: पीएम मोदी ने कहा, इस बैठक से सहयोग का नया युग शुरू होगा

भारत चीन वार्ता: पीएम मोदी ने कहा, इस बैठक से सहयोग का नया युग शुरू होगा

नई दिल्ली। तमिलनाडु के मामल्‍लपुरम में आज दूसरे दिन भी  भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और चीन के राष्‍ट्रपति षी चिनफिंग के बीच दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता हुई। होटल ताज फिशरमैन्स कोव में लगभग एक घंटे तक अकेले में विभिन्‍न मुद्दों पर चर्चा की। इसके बाद दोनों के बीच शिष्‍टमंडल स्‍तर की वार्ता हुई। इसमें विदेश मंत्री एस. जयशंकर और राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस वार्ता के शुरू में कहा कि वुहान शिखर बैठक से दोनों देशों के संबंधों में नई गति आई और विश्‍वास पैदा हुआ जबकि इस बैठक से सहयोग का नया युग शुरू होगा। वुहान बैठक के नतीजों का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संपर्क बढ़ा है जिससे आपसी संबंधों में स्थिरता बढ़ने के साथ-साथ नई गति आई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और चीन प्राचीन काल से विश्‍व की बड़ी आर्थिक शक्तियां रही हैं। दोनों देश अब साथ-साथ फिर से वही स्थिति हासिल कर रहे हैं। उन्‍होंने यह भी कहा कि वुहान वार्ता में फैसला किया गया था कि दोनों देश आपसी मतभेदों को झगड़े की वजह नहीं बनने देंगे और इन्‍हें समझदारी से निपटाएंगे। राष्‍ट्रपति चिनफिंग ने कहा कि वे भारत ने जिस गर्मजोशी से उनका स्‍वागत किया है वे इससे अभिभूत हुए हैं।

दोनों नेताओं ने सिल्‍क साडि़यों की बुनाई का प्रदर्शन देखा। उन्‍होंने हस्‍तशिल्‍प और प्राचीन कलाकृतियों की प्रदर्शनी भी देखी। मोदी ने षी चिनफिंग को उनकी तस्‍वीर वाली एक शॉल उपहार स्‍वरूप भेंट की गई। इसे कोयम्‍बटूर के सिरुमुगई के शिल्‍पकारों ने विशेष रूप से उनके लिए तैयार किया है। प्रधानमंत्री ने उन्‍हें कांचीपुरम सिल्‍क की साड़ी भी भेंट की। राष्ट्रपति चिनफिंग ने बातचीत के दौरान कहा कि भारत और चीन दोनों ही विशाल तथा जटिल देश होने के कारण आतंकवाद और कट्टरवाद का सामना कर रहे हैं। उन्‍होंने राष्‍ट्रीय अवधारणाओं और प्रशासनिक प्राथमिकताओं पर चर्चा की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय व्‍यापार तथा निवेश को और आगे बढ़ाने के तरीके तलाशने पर सहमति व्‍यक्‍त की।

Check Also

सिनेमा को समझने का मौका ‘मामी फिल्म फेस्टिवल’

प्रमोद कुमार   मुंबई। फिल्म फेस्टिवल एक तरफ प्रतिभाओं के प्रदर्शन के लिए मंच बनते हैं, ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *