Home / धर्म-अध्यात्म / विधि विधान से करें मां जगदंबा की उपासना

विधि विधान से करें मां जगदंबा की उपासना

१. नवरात्रि का व्रत और पूजन

नवरात्र आरंभ तिथि के विषय में देवीपुराण में आगे दिया हुआ संदर्भ है ।

अमायुक्ता न कर्तव्या प्रतिपत्पूजने मम ।
मुहूर्तमात्रा कर्तव्या द्वितीयादिगुणान्विता ॥

अर्थ : नवरात्रि का व्रत और पूजन अमावास्या युक्त प्रतिपदा को नहीं करना चाहिए । ऐसे समय प्रतिपदायुक्त द्वितीया से व्रत और पूजन करना श्रेयस्कर होता है ।

२. कलश स्थापना

हस्त नक्षत्रयुक्त प्रतिपदा को कलश स्थापित करना उत्तम होता है ।

३. हवन

अपनी कुल परंपरा के अनुसार अष्टमी अथवा नवमी को हवन करना चाहिए । तत्पश्‍चात अन्न ग्रहण (भोजन) करना चाहिए ।

४. विसर्जन

इसी दिन संपूर्ण पूजा-सामग्री तथा देवी की प्रतिमा का विसर्जन करना चाहिए ।

५. देवीपूजन

देवी की पूजा में हलदी कुमकुम, बेल आदि होना चाहिए । इस पूजा में तुलसी और दुर्वा वर्ज्य हैं ।

६. देवी की उपासना

निम्नानुसार किसी भी एक प्रकार से उपासना कर सकते हैं ।

अ. श्री दुर्गासप्तशती का पाठ करें ।

आ. प्रतिदिन श्रीसूक्त के १५ पाठ करें । उससे पूर्व १ माला सूर्यमंत्र का जप करें ।

७. श्रीसूक्त की तांत्रिक उपासना

यह उपासना प्रतिदिन तडके २.३० बजे प्रारंभ करें ।

अ. प्रथम विनियोग, न्यास आदि करें । (कुछ विधि करने से पूर्व मंत्र सिद्ध होने के लिए दूसरा मंत्रजप अथवा अन्य कुछ क्रिया करने हेतु बताया जाता है । उसे विनियोग कहते हैं ।)

आ. तत्पश्‍चात श्रीयंत्र पर श्रीलक्ष्मी की (कमल पर बैठी/खडी) मूर्ति रखकर श्रीसूक्त के २१ पाठों से अभिषेक करें ।

इ. इसके उपरांत ११ पाठों से घी और गुगुल से हवन करें ।

इससे लक्ष्मीमाता प्रत्यक्ष दर्शन देंगी । उन्हें नित्य अपने घर में ही रहने की प्रार्थना करें ।

८. मंत्रजप

८ अ. मंत्रजप की पद्धति

यदि गुरूदेव ने किसी भी देवी का मंत्र दिया हो, तो उसका प्रतिदिन १ माला जप रक्तचंदन के मोतियों से बनी माला से करें । दो मंत्रजपों में थोडा अंतर रखें ।

८ आ. जप करते समय रखा जानेवाला भाव

जप करते समय मैं ही अव्यय, अविनाशी भगवती हूं, ऐसा भाव रखें । यह अंतर जितना अधिक रख सकते हैं, उतना रखें, जिससे भाववृद्धी होती है और स्वयं ही जगदंबा हैं, ऐसी अनुभूति होती है । शक्ति-उपासक ऐसी ही उपासना करते हैं और अनुभूति लेते है; परंतु वे विनियोग, न्यास, मुद्रा आदि कठिन क्रिया पहले करते हैं । भगवती का सान्निध्य प्राप्त कर संपूर्ण देह मंत्रमय कर वे ऐसी उपासना करते हैं ।

९. मंत्र दीक्षा

अ. नवार्ण मंत्र की दीक्षा ली हो, तो १ सहस्र (हजार) बार उसका प्रतिदिन जप करें ।

आ. दीक्षा न हो, तो मंत्र का उत्कीलन, संजीवन ये क्रियाएं पहले करें । तत्पश्‍चात जप करें ।

नवरात्रि में नवनाथपंथीय लोग नाथ उपासना करते हैं ।

श्री. अनिल. गो. बोकील, पुणे 

Check Also

मां भगवती के नौ रूपों की उपासना का पर्व नवरात्रि प्रारंभ

 आज से शारदीय नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। मुख्य रूप से हम दो नवरात्रों के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *