Wednesday , December 11 2019
Home / अर्थजगत / जियो और माइक्रोसॉफ्ट ने भारत में डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन को बढ़ावा देने के लिये गठबंधन किया

जियो और माइक्रोसॉफ्ट ने भारत में डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन को बढ़ावा देने के लिये गठबंधन किया

मुंबई, : जियो, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सब्सिडीएरी,और माइक्रोसॉफ्ट ने एक विशिष्ट,व्यापक एवं दीर्घकालिक रणनीतिक साझेदारी की शुरूआत की है। कंपनी की ओर से प्रेस रिलीज के अनुसार इस साझेदारी का उद्देश्‍य भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था एवं समाज के डिजिटल रूपांतरण को बढ़ावा देना है। इस 10-वर्षीय अनुबंध में दोनों कंपनियों की विश्‍व स्‍तरीय क्षमताओं को शामिल किया गया है। इनमें कनेक्टिविटी, कम्‍प्‍यूटिंग, स्‍टोरेज सॉल्‍युशन्‍स और अन्‍य टेक्‍नोलॉजी सर्विसेज एवं भारतीय व्‍यावसायों के लिये आवश्‍यक एप्‍लीकेशन्‍स शामिल हैं और यह रिलायंस के मौजूदा और नए व्यवसायों सहित व्यापक इकोसिस्टम तक विस्तारित होगा।

संयुक्‍त प्रयासों में, जियो और माइक्रोसॉफ्ट का उद्देश्‍य डेटा एनालिटिक्‍स, एआइ, कॉग्निटिव सर्विसेज, ब्‍लॉकचेन, इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स और छोटे एवं मध्‍यमवर्गीय एन्‍टरप्राइजेज के बीच एज कम्‍प्‍यूटिंग जैसी प्रमुख तकनीकों को अपनाना और बेहतर बनाना है, ताकि उन्‍हें प्रतिस्पर्धा करने एवं विकसित होने में सक्षम बनाया जा सके। इसके साथ ही यह भारत में टेक्‍नोलॉजी लेड जीडीपी ग्रोथ में मदद करेगा और नेक्‍स्‍टजेन टेक्‍नोलॉजी के अडाप्शन को बढ़ावा देगा।

इस नये समझौते के अनुसार :

  1. जियो अपने आंतरिक श्रमबल को क्‍लाउड आधारित उत्‍पादकता एवं माइक्रोसॉफ्ट 365 के साथ उपलब्‍ध कोलैबोरेशन टूल्‍स उपलब्‍ध कराएगा और अपने नॉन-नेटवर्क एप्‍लीकेशन्‍स को माइक्रोसॉफ्ट एज़्योर क्‍लाउड प्‍लेटफॉर्म पर माइग्रेट करेगा।
  2. जियो का कनेक्टिविटी इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, जिसका लक्ष्‍य हर व्‍यक्ति, हर चीज को हर जगह कनेक्‍ट करना है, अपने क्लाउड फर्स्ट रणनीति के तहत स्टार्ट-अप के अपने बढ़ते इकोसिस्टम में माइक्रोसॉफ्टएज़्योर क्‍लाउड प्‍लेटफॉर्म केअडाप्शन को बढ़ावा देगा।
  3. जियो द्वारा समूचे भारत में विभिन्‍न स्‍थानों पर डेटासेंटर्स स्‍थापित किये जायेंगे, जिसमें नेक्‍स्‍ट-जेनरेशन कम्‍प्‍यूट,स्‍टोरेज और नेटवर्किंग दक्षतायें मौजूद होंगी और माइक्रोसॉफ्ट द्वारा जियो की पेशकशों को सपोर्ट करने के लिये इन डेटासेंटर्स में इसके एज़्योरप्‍लेटफॉर्म को डिप्लॉइ किया जायेगा। शुरूआती दो डेटासेंटर्स, जो 7.5 मेगावाट तक के पावर की खपत करने वाले आइटी इक्विपमेंट को रख सकते हैं, की स्‍थापना गुजरात एवं महाराष्‍ट्र में की जा रही है। इनका पूर्ण परिचालन 2020 में शुरू करने का लक्ष्‍य रखा गया है।
  4. जियो द्वारा भारतीय व्‍यावसायों की जरूरतों पर केन्द्रित इनोवेटिव क्‍लाउड समाधानों को विकसित करने के लिये माइक्रोसॉफ्ट एज़्योर क्‍लाउड प्‍लेटफॉर्म का लाभ उठाया जायेगा।
    1. जियो भारतीय ग्राहकों के लिये स्‍पीच एवं कम्‍प्‍यूटर विजन सॉल्‍युशन्‍स को एकीकृत करने का अपना विज़न लागू करेगा,माइक्रोसॉफ्ट के साथ काम करके यह ऐसे समाधानों को विकसित करेगा, जो भारतीय भाषाओं एवं बोलियों को सपोर्ट करते हैं। इससे भारतीय समाज के विभिन्‍न वर्गों में टेक्‍नोलॉजी को अपनाने में मदद मिलेगी।

    रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर मुकेश अंबानी ने कहा कि, ”सभी भारतीयों को तकनीक का इस्‍तेमाल करने में सक्षम बनाने के हमारे प्रयासों में माइक्रोसॉफ्ट के साथ साझेदारी कर जियो को बेहद खुशी हो रही है। यह एक अनूठी और अपनी तरह की पहली साझेदारी है, जो दो बड़ी कंपिनयों की दक्षताओं को एकसाथ लेकर आ रही है, जिनका फोकस छोटे एवं बड़े भारतीय उपक्रमों के‍ लिये उल्‍लेखनीय मूल्‍य निर्माण करने पर है। जियो के विश्‍वस्‍तरीय डिजिटल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और माइक्रोसॉफ्ट के एज़्योर क्‍लाउड प्‍लेटफॉर्म की मदद से नवोन्मेषी और वहनीय क्‍लाउड-समर्थ डिजिटल सॉल्‍युशन्‍स को विकसित करने के लिये एक साथ काम करने से भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के डिजिटलीकरण को बढ़ावा मिलेगा और यह भारतीय बिजनेस को दुनिया भर में प्रतिस्‍पर्धी बनायेगा। ”

    माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्‍य नाडेला ने कहा कि, ”समूचे भारत में संगठनों में नवाचार एवं विकास में के लिये टेक्‍नोलॉजी में सुधारों को लागू करने का हमारे पास एक बेहतरीन अवसर है। जियो की अग्रणी कनेक्टिविटी एवं डिजिटल समाधानों को एज़्योर, एज़्योर एआइ और ऑफिस 365 के साथ मिलाने से देश भर में लाखों व्‍यावसायों को संगणना, भंडारण, उत्पादकता तथा अन्य कार्यों के लिए शक्तिशाली साधान और प्लेटफार्म उपलब्ध होंगे।” माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के अध्यक्ष अनंत माहेश्वरी ने अपने ब्लॉग में लिखा, “माइक्रोसॉफ्ट ने व्यवसायों को इंटेलिजेंट क्लाउड और इंटेलिजेंट एज की विश्व  दृष्टि के साथ डिजिटल परिवर्तन के वैश्विक परिदृश्य में क्रांति लाने में मदद की है। हमने भारत की डिजिटल प्रगति में तेजी लाने के लिए व्यापक दीर्घ कालिक गठबंधन की घोषणा करने के लिए जिओ के साथ भागीदारी की है। यह सहयोग भारतीय एसएमबी और स्टार्टअप में इनोवेशन को बढ़ावा देगा और उनके लिए अधिक किफायती ऑफ रिंग्ज प्रस्तुत करेगा, जिसमें वन स्टॉप आईटी क्षमताओं के लिए समाधानों की एक नई श्रृंखला और मोबाइल उपकरणों, डेस्क टॉप और अन्य उपकरणों पर फ्रंट एंड एप्लिकेशन की अनुमति देना शामिल है। जिओ बड़े उद्यमों के लिए मायक्रोसॉफ्ट एज़्योर पर नए कस्टम समाधानों का निर्माण करेगा, जो पहले से ही हमारे प्रौद्योगिकी प्लेटफार्मों से लाभान्वित हुए हैं।”

Check Also

एयरटेल ने भारत की पहली व्हॉईस ओवर वाई-फाई सेवा- ‘एयरटेल वाई-फाई कॉलिंग सेवा प्रस्तुत की

मुंबई: भारत की सबसे बड़ी इंटीग्रेटेड टेलीकम्युनिकेशंस कंपनी, भारती एयरटेल (‘‘एयरटेल’’) ने आज अपनी व्हॉईस ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *