Home / घर-संसार / स्वास्थ्य / कोलकाता में हेल्थटेक 2019 का आयोजन

कोलकाता में हेल्थटेक 2019 का आयोजन

मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल व बंगाल चेंबर की पहल

मौजूदा समय में इस बदलाव के युग में हेल्थकेयर उद्योग में तेजी से परिवर्तन हो रहा है। इसके कारण तकनीकी बदलाव आंतरिक रूप से विस्थापित हो गई है, जिसे लेकर स्वास्थ्य प्रणाली अंदरुनी कार्य प्रवाह के लगभग सभी पहलुओं से जुड़ी है और क्रिया को अनुकूलित और गति प्रदान करती है। क्योंकि इसके जरिये रोगियों, प्रदाताओं और भुगतानकर्ता से जुड़े सभी हितकारी धारक प्रभावित होते हैं। हेल्थकेयर धारकों के लिए एक केंद्रीकृत डेटा का उपयोग करना इसमें एक क्रमिक बदलाव है।

डॉ. आलोक रॉय (पूर्व अध्यक्ष, द बंगाल चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री और अध्यक्ष, मेडिका ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स) ने कहा: तकनीकी रूप से लोगों की देखरेख को और भी ज्यादा बेहतर बनाने के लिए विभिन्न किस्म के प्रौद्योगिकी का अनुप्रयोग दुनिया भर में हेल्थकेयर संगठनों के लिए एक व्यापारिक का विषय बन गया है। डिजिटल तकनीक आज हर इंसान के जीवन का किसी ना किसी तरीके से अहम हिस्सा बन गया है। डॉ. रॉय मेडिका सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल व द बंगाल चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा संयुक्त रुप से कोलकाता में 12 व 13 अप्रैल 2019 को दो दिवसीय हेल्थटेक 2019 यूनिवर्सल हेल्थकेयर प्रौद्योगिकी विषय पर आयोजित सेमिनार में अपने विचार रख रहे थे।

बंगाल चेंबर के अध्यक्ष इंद्रजीत सेन ने कहा: सभी मरीजों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के अलावा बंगाल चेंबर आईटी समिति का प्रस्ताव है कि सार्वजनिक और निजी दोनों स्वास्थ्य प्रणालियाँ ब्लॉकचैन प्रणाली को अपनाकर इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड (ईएचआर) के तहत कार्य करें। ब्लॉकचैन प्रणाली में संग्रहीत विशिष्ट नागरिक आईडी के तहत मरीजों की रिपोर्ट से लेकर डॉक्टरों द्वारा दिये गये सलाह पर्चे की भी उसमें पूरी जानकारी मौजूद हो। सेमिनार के पहले दिन का मुख्य आकर्षण प्राइस वॉटरहाउस कूपर्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा तैयार ब्लॉकचेन का उपयोग करके भारत में “रीमैगनिंग हेल्थ इंफॉर्मेशन एक्सचेंज सिस्टम’’ का प्रकाशन होगा।

भारतीय स्वास्थ्य सेवा, आयुष्मान भारत को अपनाकर और यूनिवर्सल हेल्थ केयर (यूएचसी) के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए परिवर्तन के शिखर पर है। यह लंबे समय से स्वास्थ्य व सामर्थ्य की देखभाल की गुणवत्ता और पर्याप्त कुशल संसाधनों की उपलब्धता की चुनौतियों का सामना कर रहा है। मौजूदा प्रौद्योगिकी की विभिन्न सीमाएँ मरीजों में सार्थक स्वास्थ्य सूचना उत्पादन, स्वामित्व, भंडारण, मानकीकरण व सुरक्षा की चुनौतियों का कारण बन चुकी हैं। ब्लॉकचैन एक सुरक्षित तरीके से सार्थक स्वास्थ्य जानकारी उत्पन्न करने, स्टोर करने और सार्थक स्वास्थ्य सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक विश्वास सक्षम सूचना को विनिमय प्लेटफॉर्म प्रदान करके इन चुनौतियों का समाधान प्रदान करता है।

अर्नब बसु (अध्यक्ष, आईटी समिति, द बंगाल चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री) : गत वर्ष इस विषय ने दो उभरते प्रौद्योगिकियों – आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और इंटरनेट ऑफ मेडिकल थिंग्स (आइओएमटी) के महत्व पर प्रकाश डाला गया था, जिसमें स्वास्थ्य देखभाल और सुलभता जैसी कुछ प्रमुख चुनौतियों के बारे में विस्तार से चर्चाएं भी हुई थी। इसने इन दोनों के तकनीकी उपयोग के मामलों को समझने में मदद की, जो विघटनकारी तरीके से भारतीय स्वास्थ्य सेवा तकनीक की पारिस्थितिक तंत्र को लाभ पहुंचा सकते हैं। पिछले 12 महीनों में हमने इन नये तकनीकों को अधिक से अधिक अपनाया है और भारतीय स्वास्थ्य सेवा संगठनों में इन विघटनकारी प्रौद्योगिकियों के बारे में जागरूकता बढ़ाई है। हमने कई निजी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं और उपकरण की बड़ी कंपनियों ने भी इन अत्याधुनिक तकनीकों को अपनाया है और ये भारत में काफी तेजी से परिपक्व हो रही हैं। पीडब्लूसी इन तकनीकों के आसपास समाधान विकसित करने के लिए उनमें से कई के साथ समान रुप से जुड़े हैं।

पहले दिन के कुछ प्रमुख प्रतिभागियों में काजुया नाकाजो (मुख्य महानिदेशक, जेट्रो, नई दिल्ली),  ह्यूबर्ट गोफिनेट (भारत में बेल्जियम के दूतावास के व्यापार और निवेश आयुक्त), डॉ कुणाल सरकार (कार्डिएक सर्जन व वरिष्ठ उपाध्यक्ष और वरिष्ठ सलाहकार, मेडिका ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स) प्रमुख रुप से इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मौजूद रहेंगे।

Check Also

डायबिटीज नियंत्रण के संदर्भ में महिलाओं की स्थिति पुरुषों से काफी बेहतर है

मेट्रोपोलिस के अध्ययन से पता चलता है कि, 50-60 आयु वर्ग में नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की संख्या सबसे अधिक है मुंबई, 13 नवंबर, 2019: मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर ने पिछले 5 सालों में मुंबई में HbA1c के कुल 532182 नमूनों का परीक्षण किया, जिनमें से अधिकतम 25% मरीजों को नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाया गया। नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से जुड़े मामलों की सबसे ज्यादा संख्या 50-60 आयु वर्ग (लगभग 32%) में पाई गई, जिसके बाद 60-70 वर्ष (लगभग 29%) और 40-50 वर्ष (27.6%) के लोगों का स्थान आता है। ऐसे मामलों की सबसे कम संख्या 20-30 वर्ष (10%) के आयु वर्ग में पाई गई, लेकिन यह धीरे-धीरे बढ़ते हुए 50-60 आयु वर्ग में उच्चतम स्तर तक पहुंच गया। इसके बाद बुजुर्ग लोगों के आयु समूहों में लगातार गिरावट देखी गई। दिलचस्प बात यह है कि, परीक्षण की गई सभी महिलाओं में से 22.7% नियंत्रित डायबिटीज के ख़राब स्तर से पीड़ित पाई गईं, जबकि पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 28% है। मुंबई में कंपनी के ग्लोबल रेफरेंस लैबोरेट्री में जांच किए गए आधे मिलियन से अधिक नमूनों में से लगभग 23% नमूने प्री-डायबिटिक स्टेज में पाए गए, लगभग 29% नमूने डायबिटिक पाए गए, जबकि 22.6% नमूने नॉन-डायबिटिक थे। HbA1c के लिए जांचे गए लगभग 25% नमूनों में से लगभग 8% में इसका स्तर अधिक पाया गया, जिसका मतलब है कि उनका ब्लड ग्लूकोज़ लेवल नियंत्रित नहीं है। अगर मरीज के ब्लड ग्लूकोज़ का लेवल लंबे समय तक उच्चतम रहे, तो इससे डायबिटीज से जुड़ी जटिल समस्याओं के पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। (कृपया नीचे की तालिका में दिए गए आंकड़ों पर ग़ौर करें।) मुंबई में HbA1c के लिए जांचे गए 532182 नमूनों का विश्लेषण आयु वर्ग सामान्य प्री–डायबिटिक डायबिटिक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *