Home / Headline / मदर्स रेसिपी के #Giftoftime कैंपेन द्वारा मदर्स रेसिपी ने किया महिलाओं को प्रोत्साहित

मदर्स रेसिपी के #Giftoftime कैंपेन द्वारा मदर्स रेसिपी ने किया महिलाओं को प्रोत्साहित

एक व्यक्ति जो हमारे जीवन को परिपूर्ण बनाता है, वह ज्यादातर हमारी माँ, बहन, बेटी या पत्नी है! अथक, सतत और निस्वार्थ परिश्रम के साथ वे हमारे जीवन की तस्वीर को एक सही रुप देते हैं| लेकिन यहां एक अनकहा सवाल उत्पन्न होता है – वह क्या चीज है जो आपको, आप बनाता है? आप एक माँ, बहन, दोस्त और पत्नी से उपर कौन हैं? आप अपने खाली समय में क्या करतीं हैं? और अगर हम आपको आपके समय के 2 घंटे बचाने में मदद कर सकें, तो आप क्या करेंगी?

यही वह सवाल है, जो मदर्स रेसिपी द्वारा अपने “टेस्ट ऑफ़ लव” श्रृंखला के तहत शुरू किए गए नवीनतम कैंपेन #GiftofTime के तहत महिलाओं से पूछा जाता है। महिला दिवस के दौरान अभियान शुरू करने की परंपरा को तोड़ते हुए, मदर्स रेसिपी ने जानबूझकर घर में यह महत्वपूर्ण संदेश देने के लिए इसके एक सप्ताह के बाद कैंपेन चलाया कि, महिलाओं को हर दिन खुद को सेलिब्रेट करना चाहिए, केवल 8 मार्च को ही नहीं, क्योंकि मार्च माह के बाहर भी महिलाओं का अस्तीत्व है।

कैंपेन वीडियो की शुरूआत तीन महिलाओं के जीवन में झांकने के साथ होती है| जो उनके व्यस्त और नीरस जीवन की विभिन्न भूमिकाओं और उनके आसपास की अपेक्षाओं का ख्याल रखते हुए आगे बढ़ती हैं। जब तक यह एक अप्रत्याशितमोड़ नहीं लेता, जीवन ऑटो मोड पर लगता है, वीडियो को इस तरह तैयार किया गया है कि महिलाओं का इसका ध्यान तक नहीं है। एक आसान सवाल यह है कि – यदि आपके पास एक दिन में दो घंटे अतिरिक्त हैं, तो आप क्या करना चाहेंगी? ऐसे में तब उन्हें अपने बारे में भावनात्मक रूप से सोचते हुए दिखाया है, जिसके के बारे में कभी सोचा ही नहीं है,और इसके बाद वे अपने हितों को साझा करने की शुरूआत करतीं हैं। इसके बाद मदर्स रेसिपी उन्हें स्वादिष्ट और प्रामाणिक भोजन विकल्पों की दुनिया में ले जाती है, जो सुविधाजनक और तेज गति से खाना पकाने से संबंधित है, दिलचस्प तरीके से उन्हें इस बात की जानकारी दी जाती है कि उनके उत्पाद रसोई में उन्हें कितना समय बचाने में मदद करेंगे। वीडियो इन महिलाओं, जो परिवार और स्वाद के साथ समझौता किए बिना वह काम करना चाहती हैं, जिसे करना वे पसंद करती हैं, की सकारात्मक अभिव्यक्ति के साथ खत्म होती है।

कॅम्पेन व्हीडिओ की लिंक: https://youtu.be/DwbMfUHtwj0

इस कैंपेन  के बारे में बात करते हुए, मदर्स रेसिपी की चीफ स्ट्रेटेजी ऑफिसर संजना देसाई ने कहा, पूरे परिवार की देखभाल करने के प्रयास में, ‘मैं‘ अक्सर कहीं खो जाता हैएक ब्रांड के रूप में हमें महिलाओं के लिए राह तैयार करनी चाहिए। इसलिएइस अभियान के द्वाराहमारा उद्देश्य आज की आने वाली एक बड़ी चुनौती को उजागर करने के साथ ही उसके समाधान का प्रयास करना है। मदर्स रेसिपी अपने उपभोक्ताओं के जीवन में अर्थपूर्ण बदलाव लाने के लिए जीवनशैली में बदलाव के हल प्रदान करने में विश्वास रखती है। अपने उत्पादों के जरिएहम अपने उपभोक्ताओं को रसोई में सक्षम और समृद्ध करना चाहते हैंन कि उनकी जगह लेना चाहते हैं। हम उन्हें रसोई में समय बचाने में मदद करते हैंताकि वे अपनी पसंद की चीजों के लिए कुछ समय निकाल सकें।

उन्होंने आगे कहा, यह कोई एक विशेष दिवस मनाने के बारे में नहीं हैइसलिए हमने जान-बूझकर महिला दिवस पर इस कैंपेन की शुरुआत नहीं की। यह किसी एक खास दिन से परे देखने के बारे में हैजिसका लक्ष्य वर्ष के हर दिन में बदलाव लाना है।

पेस्ट, अचार, आरटीसी, इंस्टेंट मिक्स और अन्य उत्पादों वाली मदर रेसिपी की रेंज स्वादिष्ट जायके, स्थानीय स्वाद, सुविधा और आसान रसोई की सुविधा प्रदान करती है। ब्रांड की योजनाइस कैंपेन को विभिन्न ऑनलाइन और ऑफलाइन गतिविधियों के साथ रेडियो के माध्यम से आगे बढ़ाने की है।

ट्राइटन कम्यूनिकेशन के कार्यकारी निदेशकवीरेंद्र सैनी ने कहा कि, आज के हालात में महिलाएं अपने शौक को पूरा करने के लिए खुद के लिए कुछ समय निकाल पाती। उन्होंने खुद को एक निर्धारित ढांचे तक सीमित कर लिया हैजिसे वे नियत और नीरस तरीके का अनुसरण करती हैं। इस कैंपेन के जरिए हम चाहते थे कि महिलाएं अपनी क्षमता को जाने और जो कुछ भी वे करना चाहती हैंउसे पूरा करने के लिए समय निकालें। यह विचार मौजूदा जिम्मेदारियों पर ध्यान नहीं देने या समझौता करने के लिए नहीं हैबल्कि उन्हें खुद के लिए कुछ समय का उपहार ‘#Giftoftime’ देकर उन्हें समृद्ध और सशक्त बनाना है।“

इस कैंपेन की संकल्पना संजना देसाई और मदर्स रेसिपी टीम के साथ-साथ रचनात्मक एजेंसी ट्राइटन कम्यूनिकेशन द्वारा की गई है और यह YouTube और Facebook जैसे कई डिजिटल प्लेटफार्मों पर लाइव है। यह कैंपेन से निश्चित रूप से कुछ मौजूदा मानदंडों और रूढ़ियों को चुनौती दे सकता है, जिससे कि महिलाओं को अपने सपनों पर सोचने का कारण मिले और खुद के अस्तित्व को वो सेलिब्रेट कर सकें।

Check Also

जनजातियों और वनवासियों के अधिकार पूरी तरह सुरक्षित रखे जाएंगे: प्रकाश जावड़ेकर

सरकार ने वन अधिनियम 1927 में संशोधन के मसौदे को वापस लेने का फैसला किया ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *