Home / अर्थजगत / बीएसईके इंडियन क्लियरिंग कॉर्पोरेशन ने एनबीएचसी को किया सूचीबद्ध

बीएसईके इंडियन क्लियरिंग कॉर्पोरेशन ने एनबीएचसी को किया सूचीबद्ध

मुंबई : एग्री-इकोसिस्टम में भारत की अग्रणी एकीकृत सेवा प्रदाता, नेशनल बल्क हैंडलिंग कॉर्पोरेशन प्रा. लिमिटेड (एनबीएचसी) को हाल ही में कृषि, गैर-कृषि और प्रसंस्कृत वस्तुओं के लिए बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड की सहायक कंपनी इंडियन क्लीयरिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईसीसीएल) के लिए स्वीकृत ‘वेयरहाउस सर्विस प्रोवाइडर’ और पारखी के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

एनबीएचसी, आईसीसीएल के सभी वितरण केंद्रों में गुणवत्ता परख, ग्रेडिंग, निरीक्षण और प्रमाणन, कृषि-वस्तुओं के भंडारण आदि के लिए सदस्यों को विश्व स्तरीय औद्योगिक प्रणाली युक्त समाधान प्रकिया प्रदान करेगा। एनबीएचसी ने शुरुआत करने के लिए अपने वेयरहाउस को कपास, ग्वारसीड, ग्वारगम आदि जैसे गैर-कृषि उत्पादों और बीएसई के आईसीसीएल के लिए कॉपर कैथोड जैसे गैर-कृषि उत्पाद के रूप में मान्यता दी है।

इस घोषणा पर टिप्पणी करते हुए एनबीएचसी के एमडी और सीईओ श्री रमेश दोराईस्वामी ने कहा, “हमें इस समझौते पर गर्व है, क्योंकि यह हमें बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की सहायक कंपनी इंडियन क्लियरिंग कॉर्पोरेशन के लिए वेयरहाउसिंग सर्विस प्रोवाइडर (डब्ल्यूएसपी) और पारखी बनाती है। हम एक्सचेंज के व्यापारिक सदस्यों और उनके ग्राहकों के लिए कृषि, गैर कृषि और प्रोसेस्ड कमोडिटीज की पूरी रेंज के लिए सबसे अच्छी तकनीक आधारित स्टोरेज सॉल्यूशंस के साथ ही बेहतर रखरखाव वाली सुरक्षा सेवाएं प्रदान करने को प्रतिबद्ध हैं। इस कदम के साथ, हम न केवल गोदामों के हमारे विशाल नेटवर्क, अभिनव और ग्राहक केंद्रित दृष्टिकोण का लाभ उठाएंगे, बल्कि हितधारकों के बीच हमारी विश्वसनीयता भी बढ़ेगी। हम मानते हैं कि बीएसई की विश्वसनीयता और हमारी सेवा दक्षता साथ मिलकर पूरे कमोडिटी इको-सिस्टम के लिए एक आदर्श बेंचमार्क स्थापित करेगी।

एनबीएचसी भारत का एकमात्र सेवा प्रदाता है जिसके पास तीन आईएसओ प्रत्यायन (एक्रिडिएशन) के साथ ही यूके स्थित GAFTA की प्रतिष्ठित सदस्यता है – जिसे निर्यात-आधारित कृषि-उपज की गुणवत्ता परख के लिए वैश्विक बेंचमार्क माना जाता है। एनबीएचसी के पास 50 से ज्यादा बैंकों, वित्तीय संस्थानों के साथ-साथ पूरे भारत के 23 राज्यों में 2500 से अधिक गोदामों के साथ वेयरहाउसिंग उपस्थिति के लिए 1,85,000 करोड़ रुपये (संचयी) से भी ज्यादा की संपत्ति के सफलतापूर्वक प्रबंधन का एक सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड है। जिसमे कुल मिलाकर 65 मिलियन मीट्रिक टन (संचयी) से भी ज्यादा कृषि उत्पादों का प्रबंधन शामिल है। इसमें 170 से ज्यादा कृषि उत्पादों के गुणवत्ता परीक्षण के लिए 45 से ज्यादा कार्यात्मक क्यूए लैब्स और 200 से ज्यादा मोबाइल लैब के साथ ही 16 से अधिक राज्यों में कीट प्रबंधन सेवाएं भी शामिल हैं।

Check Also

ब्रिक्‍स व्‍यापार परिषद् ने अगली शिखर बैठक तक 500 अरब डॉलर के आपसी व्‍यापार का लक्ष्‍य हासिल करने की रूपरेखा तय की : प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमत्री नरेन्‍द्र मोदी ने ब्रिक्‍स व्‍यापार परिषद् और नव विकास बैंक-एनडीबी के साथ ब्रिक्‍स नेताओं ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *