Home / Headline / मुम्बई में “भाईचारा महोत्सव 2018” का शानदार आयोजन 

मुम्बई में “भाईचारा महोत्सव 2018” का शानदार आयोजन 

ब्रह्मचारी देवेंद्र भाई जी , अनिल काशी मुरारका, हरीश जायसवाल की एक बेहतर कोशिश

मुम्बई के जुहू स्थित इस्कोन ऑडिटोरियम में “भाईचारा महोत्सव 2018” का शानदार आयोजन किया गया। ब्रह्मचारी देवेंद्र भाई जी और डॉक्टर अनिल काशी मुरारका (एम्पल मिशन) के सहयोग से पेश किए गए इस भाईचारा महोत्सव 2018 में सभी धर्मों का आदर करने की बात कही गई। इस अवसर पर आचार्य डॉ लोकेश मुनि, श्री राजराजेश्वर गुरुजी UK, डॉ इमाम उमर अहमद इल्यासी, हंसाजी योगेन्द्र, अनूप जलोटा, रिज़वान आदतिय ( दक्षिण अफ्रीका ), बाबा शुक्ला, गणपत कोठारी, प्रवीन बोडाले, योगेश लखानी, महिन्द्र ढकालिया, सुनील पाल, राजू निगम,सुशील पांडेय, हरीश जायसवाल, के .के. गोस्वामी, राजेश श्रीवास्तव , प्रमोद सिंह, कोरियोग्राफर पप्पू और मालू , आंचल सोनी मिसीस इंडिया २०१८, राकेश श्रीवास्तव और इत्यादि मौजूद थे।

 

ये अपने आप मे एक अनोखा प्रोग्राम था जिसमे भाईचारा का संदेश दिया गया। ‘आओ मिलकर बैठे आपस मे बात करें’, इस बात का पैगाम दिया गया।

 

विश्वबन्धुत्व एवं आपसी सौहार्द बढ़ाने के उद्देश्य से ब्रह्मचारी देवेंद्र भाई जी के संयोजन एवं एम्पल मिशन के सहयोग से इस अनूठे महोत्सव का आयोजन किया गया। इस महोत्सव की सबसे खास बात यह रही कि इस समारोह में सभी धर्मों के धर्मगुरु एक साथ एक ही मंच पर नज़र आए। इस महोत्सव में पूरे विश्व मे एकता और भाईचारे का संदेश दिया गया। इस प्रोग्राम में भजन सम्राट अनूप जलोटा भी उपस्थित थे। ब्रह्मचारी देवेंद्र भाई जी ने बताया कि आज सारी दुनिया मे नफ़रत फैली हुई है। इंसान सिर्फ अपने स्वार्थों को पूरा करने में लगा हुआ है। इंसान अपनी सभ्यता संस्कृति और भाईचारे को भूलता जा रहा है। परिवार, समाज, राष्ट्र और पूरी दुनिया मे भेदभाव फैला हुआ है। इसी असंतुलन को दूर करना इस महोत्सव का मकसद था।

 

जिस तरह तमाम श्रोताओं ने स्टेज पर मौजूद सभी हस्तियों की बातों को ध्यान से सुना उससे यही प्रतीत हुआ कि इस महोत्सव ने भाईचारे को कायम रखने और इस जज़्बे को बढ़ावा देने की दिशा में एक बेहतर कदम उठाया है। इस महोत्सव के आयोजन के लिए ब्रह्मचारी देवेंद्र भाई जी और अनिल काशी मुरारका, और हरीश जायसवाल,खास तौर पर मुबारकबाद के हक़दार है।

Check Also

बालकों जैसी सहजता – सरलता लाएं

 मुंबई।  हृदय खुला हुआ होता है, वहां संकोच नहीं होता, वहां लज्जा नहीं होती। वहां ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *