नजरिया

क्यों भाग चले प्रवासी मजदूर

आर.के. सिन्हा जब सारी दुनिया कोरोना वायरस से थर्र-थर्र कांप रही है, तब हमारे सामने एक अन्य बेहद विषम परिस्थिति अचानक उत्पन्न हो गई है। इसके कारण कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही जंग भी अचानक कमजोर पड़ती नजर आ रही है। दरअसल देश में लॉकडाउन की घोषणा के दूसरे …

Read More »

लॉकडाउन नहीं तो कोरोना के खिलाफ कैसे जीतेंगे जंग

सियाराम पांडेय ‘शांत’ रोग का आधा इलाज सावधानी और जागरूकता से होता है लेकिन रोग तभी ठीक होता है जब रोग प्रतिरोधक औषधियों का इस्तेमाल हो। पूरी दुनिया कोरोना वायरस जैसी संघातक बीमारी से लड़ रही है। यह बीमार अधिक लोगों में न फैले, इसके उपाय कर रही है लेकिन …

Read More »

तो कैसे मुस्कराएं कोरोना से डरे बच्चे

आर.के. सिन्हा कोरोना वायरस से सारी दुनिया डरी-सहमी है और इस जहरीले संक्रमण को समाप्त करने की दिशा में सभी देश सक्रिय भी हैं। इसपर देर-सबेर काबू तो पा ही लिया जाएगा पर इसने फिलहाल स्कूल-कॉलेज जाने वाले बच्चों को बुरी तरह से झंकझोर कर रख दिया है। वे सहम …

Read More »

धार्मिक संस्थाओं के सामाजिक दायित्व

सुन्दर सिंह राणा भारतीय समाज में धर्म, दैनिक जनजीवन के इर्द-गिर्द घूमता है। मंदिर आम जीवन में धर्म का प्रमुख प्रतीक है। धर्म के प्राचीनतम प्रतीकों में मंदिर सर्वाधिक महत्व रखता है। भारत में मंदिर हिन्दू-धर्म के अलावा जैन समुदाय की आस्था का भी प्रतीक है। देश में भव्य जैन …

Read More »

कोविड-19 के खतरे को दूर करने के लिए आरबीआई को समय पर कदम उठाने के लिए बधाई

 भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर की इस बात के लिए प्रशंसा की जानी चाहिए कि उन्होंने विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के प्रकोप के कारण वित्तीय पारितंत्र के समक्ष आसन्न चुनौतियों को दूर करने के लिए अनेक सुविचारित उपायों की घोषणा की है. व्यवस्था में 3.74 ट्रिलियन रुपये के समावेश हेतु …

Read More »

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के मायने

वीरेन्द्र सिंह परिहार मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी आखिरकार कांग्रेस पार्टी छोड़नी पड़ी। वस्तुतः इसके बीज 2018 के विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद ही पड़ गए थे जब युवा सिंधिया को किनारे कर बुजुर्ग कमलनाथ को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया था। जबकि प्रदेश में सत्ता की दहलीज …

Read More »

मन की अनुभूतियां हैं सफलता या असफलता

मन अप्रत्यक्ष है। दिखाई नहीं पड़ता। यह मनुष्य के व्यक्तित्व की अंतःशक्ति है। मन के अध्ययन, विवेचन व विश्लेषण पर विश्वव्यापी मनोविज्ञान विकसित हुआ है। भारतीय दर्शन में मनःशक्ति की जानकारी ऋग्वेद के रचनाकाल से ही मिलती है। ऋग्वेद में मन भी एक देवता हैं। ऋषि मन की गतिशीलता से …

Read More »

पीने के पानी का प्रबंध करती हैं ग्रामीण महिलाएँ

भारत विकास की लहर पर सवार होकर सशक्त महिलाओं के साथ 21 वीं शताब्दी के दूसरे दशक में प्रवेश कर चुका है। महिलाओं ने उच्च शिक्षा से लेकर खेल और कॉर्पोरेट घरानों से लेकर सिविल सेवाओं तक अपनी क्षमता का लोहा मनवाया और देश को गौरवान्वित किया। हालाँकि, कामकाजी महिलाओं …

Read More »

करियर की शुरुआत से निवेश करना होता है बेहतर

संदीप भारद्वाज, मुख्य बिक्री अधिकारी, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड) पहले जॉब मिलने के उत्साह की किसी और से तुलना नहीं की जा सकती है। कॉलेज पूरा कर खुद से पैसे कमाना एक सुखद अहसास होता है। और जैसे ही पहली सैलरी खाते में आती है, तो अक्सर लोग परिवार के लिए …

Read More »

उपलब्धियों के एक्सप्रेस वे

डॉ. दिलीप अग्निहोत्री कुछ वर्ष पहले तक एक्सप्रेस वे के मामले में उत्तर प्रदेश पीछे था। विकास को गति और यात्रा को सुगम बनाने के लिए इसकी आवश्यकता समझी गई। केवल यात्रा के समय को घटाने के लिए एक्सप्रेस वे का निर्माण उचित नहीं कहा जा सकता, इसके साथ औद्योगिक …

Read More »