नजरिया

नरवा, गरवा, घुरवा बाड़ी और गोठान योजना की अगली कड़ी है ‘रोका-छेका’

डॉ. राजाराम त्रिपाठी, (कृषि विषयों के विशेषज्ञ) राष्ट्रीय संयोजक – अखिल भारतीय किसान महासंघ (आईफा) कोरोना से भी ज्यादा जानवरों की कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं से मरते हैं देश के लोग इन योजनाओं की सफलता के लिए, जनता का विश्वास जीतना तथा इन्हें नौकरशाही का नया चारागाह बनने से …

Read More »

‘कोरोना’ जैसे महासंकट और साधना – भाग 2

 वर्तमान में कोरोना रूपी संकट से संपूर्ण विश्‍व ग्रस्‍त है । इस महामारी का प्रतिदिन हो रहा फैलाव और मृत्‍यु के बढते आकडों के कारण सर्वत्र भय का वातावरण है । कोरोना संसर्गजन्‍य रोग है अथवा मानवनिर्मित आपदा, यह अब तक स्‍पष्‍टरूप से समझ में नहीं आया है । कुछ …

Read More »

‘कोरोना’ जैसे महासंकट और साधना – भाग 1

 वर्तमान में कोरोना रूपी संकट से संपूर्ण विश्‍व ग्रस्‍त है । इस महामारी का प्रतिदिन हो रहा फैलाव और मृत्‍यु के बढते आकडों के कारण सर्वत्र भय का वातावरण है । कोरोना संसर्गजन्‍य रोग है अथवा मानवनिर्मित आपदा, यह अब तक स्‍पष्‍टरूप से समझ में नहीं आया है । कुछ …

Read More »

‘हलाल सर्टिफिकेट’ – भारत को इस्‍लामीकरण की ओर ले जानेवाला आर्थिक जिहाद !

‘स्‍वतंत्र भारत को ‘सेक्‍युलरवाद’ के पाखंड का ग्रहण लग गया है । ‘सेक्‍युलर’ सरकारों द्वारा अल्‍पसंख्‍यकों के मतों के लिए धर्मनिरपेक्षता के नाम पर बहुसंख्‍यक हिन्दुओं के साथ अन्‍याय करनेवाली नीतियां अपनाई जा रही हैं । इसमें चाहे हिन्‍दू मंदिरों का सरकारीकरण हो अथवा हज-जेरूसलेम जैसी धार्मिक यात्राओं के लिए …

Read More »

डिजिटाइजेशन से स्टॉक मार्केट में निवेश करना हुआ आसान

 डिजिटाइजेशन के नेतृत्व में दुनिया में बड़े पैमाने पर अगली तकनीकी क्रांति दिख रही है। पहले स्टॉकब्रोकर और ट्रेडर फ्लोर पर मिलते थे और लेन-देन होते थे। लेकिन अब यह सारी व्यवस्था डिजिटल पर शिफ्ट हो गई है। स्टॉकब्रॉकर्स का पहले बाजार पर एकाधिकार था और उनकी अंतर्दृष्टि और सिफारिशें …

Read More »

प्रर्यावरण व जैव-विविधता “के अनमोल खजाने की बर्बादी का असली जिम्मेदार कौन?

5- जून को सारा विश्व पर्यावरण दिवस मनाता है। हमारे इस बेहद खूबसूरत नीले ग्रह का पर्यावरण निर्धारण में इसकी जैव विविधता की मुख्य भूमिका है, यह कहना अनुचित न होगा कि जैव विविधता तथा पर्यावरण परस्पर अनन्योआश्रित हैं। यूं तो हम हर साल इसे मनाते हैं, पर क्या सचमुच …

Read More »

बीएफएसआई सेक्टर का बदलता चेहरा और तकनीक की भूमिका

 लंबे समय से, भारत औपचारिक अर्थव्यवस्था के दायरे का विस्तार करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। शुक्र है तकनीक के प्रवाह ने इस काम को सरल कर दिया है। आज भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या 500 मिलियन का आंकड़ा पार कर चुकी है और …

Read More »

भारतीय रेल की ऐतिहासिक उपलब्धि श्रमिक स्पेशल ट्रेनें. . . जानें क्या है सच्चाई ?

 हाल ही में कई मीडिया और अन्य कई सोशल मीडिया माध्यमों द्वारा रिपोर्ट किया गया कि श्रमिक विशेष गाड़ियां अपने मार्ग से भटक गई हैं। वे अपने गंतव्य तक, घंटों की बजाय कई दिनों में पहुंच रही हैं। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के यात्रियों, विशेषत: प्रवासी मज़दूरों, जिन्हें गाड़ी परिचालन के …

Read More »

अच्छे रिटर्न के लिए पोर्टफोलियो में विविधता जरुरी

पोर्टफोलियो में विविधता ट्रेडिंग के क्षेत्र के सबसे प्रसिद्ध विषयों में से एक है। हालांकि, यह सबसे अधिक उपेक्षित भी है, खासकर नए निवेशकों द्वारा। फिर भी अनुभवी निवेशक अपने पोर्टफोलियो को अच्छी तरह से संतुलित रखते हैं। वे विविधता को इस बिंदु पर जाकर हासिल करते हैं कि वे …

Read More »

कठिन कोरोनाकाल‌ से अब किसान ही उबारेंगे देश को

कोरोना काल गांवों में जैविक खेती तथा परंपरागत तकनीक विकसित करने का सबसे उपयुक्त समय महानगरों से लौटरहे मजदूरों से बढ़ेगी गांव तथा खेती की मुसीबतें इजराइल तथा विदेशी कृषि तकनीकों तथा लाखों-करोड़ों रुपए के पॉली हाउसों से भारतीय खेती का कुछ खास भला नहीं होने वाला ट्रैक्टर कंपनियों ने …

Read More »