Home / Headline / माता-पिता हमेशा हमारे भीतर रहते हैं और उनकी सीख कभी बेकार नहीं जाती : शाहरुख खान

माता-पिता हमेशा हमारे भीतर रहते हैं और उनकी सीख कभी बेकार नहीं जाती : शाहरुख खान

डिज्नी के द लॉयन किंग से मिली सीख को किया साझा 

वर्ष 2016 में ‘द जंगल बुक’ के साथ लोगों के दिलों को जीतने के बाद, डिज्नी एक बार फिर से अपनी प्रसिद्ध फ्रेंचाइजी और सरताज- ‘द लायन किंग’ का लाइव एक्शन संस्करण बिल्कुल नई तकनीक और नई परिकल्पना (जो पहले कभी न देखी और सुनी गई हो) के साथ पेश करने के लिए पूरी तरह तैयार है। अब जब बात डिज्नी के इस भव्य और काल्पनिक संस्करण की हो रही हो, तो ऐसे में  हिन्दी में इस फिल्म की भव्यता को जीवंत करने के लिए बॉलीवुड के बादशाह से बेहतर कौन हो सकता है। बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान ने अपने बेटे आर्यन खान के साथ क्रमशः राजा मुफासा और उनके बेटे सिम्बा के लिए अपनी आवाज दी है।

ऑनस्क्रीन बताई गई सबसे बड़ी पारिवारिक कहानियों में से द लायन किंग हमारी यादों में बसी है,  जो हमें काफी कुछ सिखाती है। पिता-पुत्र के रिश्ते और दोस्ती के बंधन आदि कई ऐसे तत्व हैं, जिसकी सीख इस फिल्म से मिलती है, और फिल्म से काफी कुछ सीखने को मिला है, यह बात किंग खान भी काफी गहराई से महसूस करते हैं!

शाहरुख खान ने व्यक्तिगत रूप द लायन किंग के महत्व और इससे मिली जीवन की सीख के बारे में अपने विचारों को साझा किया। उन्होंने कहा कि “फिल्म की कहानी में स्वाभाविक रूप से काफी नैतिकता है। किंग खान कहते हैं कि व्यक्तिगत रूप से वे किसी फिल्म में नैतिकता की तलाश नहीं करते और शुद्ध मनोरंजन के तौर पर इसका आनंद लेते हैं। ऐसे में जब बात द लायन किंग की हो तो यह बात स्वीकार करने में तनिक भी झिझक नहीं होती, कि यह स्वाभाविक रूप से मनोरंजक है,क्योंकि यह रिश्तों के बारे में बात करता है। कई बार, बढ़ते बच्चों को यह यह महसूस नहीं होता है कि उनके माता-पिता जो कहते हैं, वह वास्तव में बाद में उनके काम आ सकता है। वे इस बात को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हैं कि बच्चे उस वक्त अपने माता-पिता द्वारा दी गई सीख को याद करते हैं, जब वे उनके जीवन में नहीं होते हैं। ऐसे में कहीं न कहीं,फिल्म की कहानी यह दर्शाती है कि, अपने माता-पिता की बातों को सुनना और वे आपको क्या कह रहे हैं, उसके अर्थ को गहराई से समझना आपके लिए अच्छा है। यह आपको सिखाता है कि, हमारे माता-पिता हमेशा हमारे भीतर रहते हैं और उनकी दी गई सीख कभी बेकार नहीं होती है। किंग खान ने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि उनके माता-पिता ने जिन छोटी-छोटी बातों के बारे में कहा था, उसे वे व्यक्तिगत रूप से अब महसूस करते हैं, जिसका एहसास उन्हें उस वक्त नहीं हुआ।

‘आयरन मैन ’और ‘द जंगल बुक’ के प्रसिद्ध निर्देशक, जॉन फेवरू द्वारा निर्देशित डिज्नी की द लॉयन किंग हाल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है। पॉप संस्कृति की उत्कृष्ट रचना, एनिमेटेड संस्करण अपनी मजबूत और भावनात्मक कहानी के साथ ही यादगार पात्रों के लिए जाना जाता है। अब आने वाले समय का यह वीरतापूर्ण सफर एक अग्रणी और अगले दौर के फोटो-रीयल एनिमेशन तकनीक और अत्याधुनिक उपकरणों के उपयोग के जरिए इस म्यूजिकल ड्रामा को बड़े पर्दे पर जीवंत करेगा।

डिज्नी की द लायन किंग 19जुलाई 2019 को अंग्रेजी, हिंदी,तमिल और तेलुगु में रिलीज होगी

Check Also

बिहार में बाढ़ का कहर जारी

केन्‍द्रीय जल आयोग ने कहा है कि भारी वर्षा के कारण बिहार के बागमती, गंडक, ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *