Wednesday , September 18 2019
Home / सामाजिक/सांस्कृतिक / एसबीआई जनरल इन्शुरेंस ने की महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में मदद

एसबीआई जनरल इन्शुरेंस ने की महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में मदद

एसबीआई जनरल इन्शुरेंस ने महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों को मदद कर रहा है । सड़क सुरक्षा से लेकर स्वच्छता तक, एसबीआई जनरल ने अधिकतम प्रभाव के लिए अपने सीएसआर कार्यक्रम का विस्तार करने के लिए रणनीतिक रूप से क्षेत्रों को चुना है। निधियों को समान रूप से वितरित किया गया है, अपने सभी भागीदारों की अखंडता को ध्यान में रखते हुए और परीक्षण करके। सीएसआर कार्यक्रम ने पूरे भारत के समुदायों में शिक्षा, स्वच्छता, परिवहन, मानसिक स्वास्थ्य और वित्तीय समावेशन के क्षेत्रों को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए एक आह्वान

बदलापुर में संगोपिता आजीवन शारीरिक, मानसिक और संवेदी-क्षीण और आत्मकेंद्रित लोगों के लिए आवासीय देखभाल प्रदान करती है। लाभार्थियों को कई जीवन कौशल सिखाए जाते हैं, जैसे, अगरबत्तियां बनाना, सिलाई बैग, और मोमबत्ती ढालना। इसका दो गुना लाभ है: यह उन्हें रचनात्मक चीजें सिखाता है और ऊर्जा का विस्तार करता है। एसबीआई जनरल संगोपिटा 57 आवासीय और 20 डेकेयर लाभार्थियों की पूरी देखभाल का समर्थन कर रहा है, साथ ही 27 लाभार्थियों के लिए फिजियोथेरेपी, भाषण चिकित्सा और व्यावसायिक चिकित्सा की लागत भी है। एसबीआई जनरल ने संगोपिता को आपातकालीन परिवहन के लिए एम्बुलेंस खरीदने में भी मदद कि है।

शिक्षा तक पहुंच प्रदान करना

एसबीआई जनरल ने स्थानिक तथा अन्य विभागोमे भी शिक्षा देणे के लिये प्रवेश किया है। एनजीओ मासूम, नाइट स्कूलों के साथ “नाइट स्कूल ट्रांसफॉर्मेशन प्रोग्राम” करने के लिए साझेदार कि है, जो लोगों तक पहुंचने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो पूरे दिन काम करते हैं लेकिन अपनी शिक्षा पुरी नही कर सकते है एसबीआई जनरल फंडिंग ने 24-, नाइट स्कूलों के 1500 छात्रों को मार्च 2019 में अपनी अंतिम परीक्षाओं के लिए आवश्यक अतिरिक्त ट्यूशन करने केलीये मदद की है।

लर्निंग स्पेस फाउंडेशन के साथ साझेदारी में, एसबीआई जनरल ने महाराष्ट्र के ग्रामीण जिलों (ठाणे / वाडा) में स्कूलों के आसपास लड़कियों के लिए 5 टॉयलेट निर्माण किया है। इन टॉयलेट का उपयोग आने वाले 5 वर्षों में 10,000 से अधिक लड़कियों इस्तमाल कर सकते है। इससे न केवल उनकी स्वच्छता की आदतों में स्वामित्व और गुणात्मक परिवर्तन की भावना पैदा करेगा, बल्कि स्कूलों में लड़कियों की उपस्थिति भी बढ़ाएगा। इसके अलावा, लड़कियों के लिए स्वच्छता और स्वच्छता पर विशेष कार्यशालाएं भी आयोजित की गईं है।

Check Also

सेना वीर नारियों तथा निकटतम परिजनों तक पहुंची और संवाद कायम किया

नई दिल्ली। बैटल एक्स डिविजन के तत्वाधान में सैनिकों की एक टीम ने साइकिल अभियान ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *