Home / अर्थजगत / मुंबईकरों को इस साल ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद: शाइनडॉटकॉम

मुंबईकरों को इस साल ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद: शाइनडॉटकॉम

मुंबई के पेशेवरों को 20 प्रतिशत से भी ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद

मुंबई: मुंबई में रहने वाले पेशेवरों को इस साल 20 प्रतिशत से भी ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद है। वहीं, दिल्ली-एनसीआर और बैंगलोर में पेशेवरों की उम्मीदें सीमित हैं, वे 0-10 प्रतिशत तक वेतन वृद्धि की आस लगाए बैठे हैं। भारत का दूसरे सबसे बड़े जॉब पोर्टल शाइन.कॉम ने हाल ही में अपनी तरह का पहला अप्रैजल सर्वे किया। इसमें एचआर के टॉप-डाउन या कंपनी के नजरिये के बजाय कर्मचारियों की उम्मीदों पर ध्यान केंद्रित किया गया। यह सर्वे आईटी, बैंकिंग एवं फाइनेंस, इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट्स, एजुकेशन/ट्रेनिंग, एफएमसीजी आदि जैसे विभिन्न उद्योगों में काम कर रहे पेशेवरों के बीच कराया गया।

सर्वे में पता चला कि मुंबई, पुणे और चेन्नई जैसे महानगरों में रहने वाले पेशेवरों को 20 प्रतिशत से भी ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में करीब 37 प्रतिशत लोगों को 20 प्रतिशत से ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद है, जबकि ऐसा सोचने वालों की संख्या पुणे और चेन्नई में क्रमशः 36 प्रतिशत और 38 प्रतिशत थी। भारत के सिलिकन वैली के तौर पर पहचाने जाने वाले बैंगलोर में पाया गया कि 21 प्रतिशत पेशेवर 10 प्रतिशत तक की वेतन वृद्धि की उम्मीद लगाए बैठे हैं। देश की राजधानी दिल्ली-एनसीआर में भी करीब 20 प्रतिशत लोग कम वेतन वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं।

शाइन.कॉम ने यह भी बताया कि मुंबई और पुणे में एजुकेशन/ट्रेनिंग और ऑटोमोबाइल सेक्टर में कर्मचारियों को ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद है। मुंबई में एजुकेशन/ट्रेनिंग क्षेत्र के 62 प्रतिशत कर्मचारी 20 प्रतिशत से ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं, जबकि ऑटोमोबाइल क्षेत्र के 56 प्रतिशत कर्मचारी ऐसी ही वेतन वृद्धि की आस लगा रहे हैं। इसके अलावा पुणे में ऑटो सेक्टर के 48 प्रतिशत और एजुकेशन/ट्रेनिंग सेक्टर के 38 प्रतिशत कर्मचारियों को 20 प्रतिशत से ज्यादा वेतन वृद्धि की आस है। इन दोनों शहरों में ज्यादातर सेक्टर में मजबूत वृद्धि देखी गई है और इसी वजह से देश में सबसे ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद इन्हीं दोनों शहरों के कर्मचारियों को है।

सेक्टर-वाइज विश्लेषण से पता चलता है कि बीएफएसआई और बीपीओ / केपीओ / आईटीईएस क्षेत्रों के पेशेवरों को सबसे ज्यादा अप्रैजल की उम्मीद है और वे 20% से अधिक वेतन वृद्धि की आस लगाए हैं। तकनीकी उन्नति और इंटिग्रेशन की वजह से इन सेक्टर्स में मजबूत वृद्धि हुई है, ऐसे में उच्च स्तर की उम्मीदें रखना आश्चर्य की बात नहीं है।

सर्वेक्षण के बारे में बात करते हुए शाइन.कॉम के सीईओ जायरस मास्टर ने कहा, “विभिन्न महानगरों और क्षेत्रों में कर्मचारियों की अपेक्षाओं में बदलाव पर ध्यान देना दिलचस्प है। हालांकि, अधिकांश क्षेत्रों में कर्मचारी की उम्मीदें अधिक हैं, और यह भी स्पष्ट है कि सभी संगठन इन अपेक्षाओं को पूरा करने में सक्षम नहीं होंगे। शाइन.कॉम पर हम अप्रैजल सीज़न के बाद पोर्टल पर नई नौकरी तलाशने वालों की सक्रियता में वृद्धि के लिए कमर कस रहे हैं। हमेशा की तरह, हम अपने कौशल और अपेक्षाओं के अनुसार उन्हें सही नौकरी दिलाने का प्रयास करेंगे। साथ ही उन्हें हमारे शाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से लंबे समय तक करियर में आगे बढ़ने और सक्षम बनने का मौका भी देंगे।

सर्वेक्षण में शामिल होने वाले उत्तरदाताओं में प्रमुख रूप से मुंबई (19.49%), दिल्ली / एनसीआर (20.89%), बैंगलोर (20.08%), हैदराबाद (16.43%), पुणे (9.34%) और चेन्नई (11.64%) सहित प्रमुख महानगरों से थे। सर्वे का निष्कर्ष यह भी है कि संगठनों को आने वाले वर्षों में अपने टॉप टैलेंट को कायम रखने के लिए अपने कर्मचारियों पर ज्यादा राशि का निवेश करने के लिए तैयार हो जाना चाहिए।

Check Also

लघु व्यवसायों के लिए शिपरॉकेट की ‘अर्ली सीओडी’ सुविधा

मुंबई, :ईकॉमर्स सेगमेंट में छोटे कारोबारियों के सामने आने वाली सबसे बड़ी चुनौतियों में से ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *