Home / Headline / योगी और मायावती के कथित घृणित भाषणों पर सख्त हुआ सुप्रीम कोर्ट

योगी और मायावती के कथित घृणित भाषणों पर सख्त हुआ सुप्रीम कोर्ट

उच्‍चतम न्‍यायालय ने उत्‍तरप्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान कथित घृणा भरे भाषणों का संज्ञान लिया है। न्‍यायालय ने निर्वाचन आयोग से पूछा है कि इन दोनों के खिलाफ अब तक क्‍या कार्रवाई की गई है। आयोग के वकील ने न्‍यायालय को बताया कि आयोग ने दोनों राजनेताओं को इस बारे में नोटिस जारी किया है।

प्रधान न्‍यायाधीश रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली पीठ का कहना था कि वह निर्वाचन आयोग के इस तर्क पर विचार करेगी कि उसके पास चुनाव प्रचार के दौरान राजनीतिज्ञों के घृणा भाषणों से निपटने के सीमि‍त कानूनी अधिकार हैं। न्‍यायालय ने इस बारे में आयोग के प्रतिनिधि को कल पेश होने को कहा है। बता दें कि देवबंद में एक रैली में मायावती ने कहा था कि मुस्लिम मतदाताओं को भावनाओं में बहकर अपने मतों को बंटने नहीं देना है। वहीं उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने ‘बजरंग बली और अली’ का जिक्र कर मायावती पर निशाना साधा था। इन्‍हीं बयानबाजियों को आदर्श आचार संहिता का उल्‍लंघन बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है। फिलहाल चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे और बसपा सुप्रीमो मायावती पर 48 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। इस तरह से यह दोनों बड़े नेता अपने दल के लिए प्रतिबंध के दौरान चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगे।

 

 

 

Check Also

बिहार में बाढ़ का कहर जारी

केन्‍द्रीय जल आयोग ने कहा है कि भारी वर्षा के कारण बिहार के बागमती, गंडक, ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *