Home / Headline / एक सबल आधार, मन जप ले राम का नाम

एक सबल आधार, मन जप ले राम का नाम

रामनवमी को भगवान श्रीराम जी का जन्मोसव मनाया जाता है। आज ही के दिन गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस की रचना का श्रीगणेश किया था। रामचरित मानस में तुलसीदास जी ने कई स्थानों पर भगवान राम के नाम की महिमा बतायी है। सभी धर्मोपदेशकों ने बड़ी अद्भुत महिमा बताई है प्रभु श्रीराम के नाम की। सभी का मानना है कि यदि श्रद्धा, विश्वास और भक्ति से राम नाम का जप किया जाए, तो सारी परिस्थितियां अनुकूल हो जाया करेंगी। राम नाम स्वयं ज्योति है, स्वयं मणि है। राम नाम के महामंत्र को जपने में किसी विधि-विधान या समय का बंधन नहीं है।

भगवान राम हमारे जीवन के प्रत्येक रंग में समाए हुए हैं। अच्छा हो या बुरा, हर अकस्मात हालात में मुंह से राम का नाम अनायास ही निकल आता है। जीवन की अंतिम यात्रा में भी लोग राम नाम का ही उच्चारण करते हैं। सद्चरित्र लोग अपनी खुशी के क्षणों को भी प्रभु श्रीराम की कृपा का परिणाम बताते हैं और प्रतिकूल समय में प्रभु की दया से जल्दी ही टलने का धैर्य रखते हैं। राम नाम का सुमिरन करके सांसारिक कष्टों से मुक्ति पायी जा सकती है।

वैज्ञानिकों का भी यह मानना है कि प्रभु श्री राम का नाम जपने से सकारात्मक उर्जा का संचार होता है और नकारात्मकता कम होती है |केवल राम शब्द का जाप ही सर्वसिद्धि देने वाला है| इसके लिए किसी खास विधि की जरूरत नहीं पड़ती। जरूरत होती है तो बस शुद्ध मन की। क्योंकि भगवान को छल-कपट नहीं भाते। वो तो सरल हृदय वाले हैं और ऐसे ही मन वालों की पुकार तुरंत सुन भी लेते हैं। यह तो सभी को पता है कि सिर्फ राम राम का जाप करने से हनुमानजी अजर अमर हो गये और उनकी कीर्ति हर जगह सूर्य के प्रकाश की तरह फ़ैल गयी|

प्रतिमा राय

Check Also

पीएम बोले, सबके लिए घर का सपना पूरा करने में कसर नहीं छोड़ेगी सरकार

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि सभी के लिए घर का सपना साकार करने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *