Home / कॅरियर / सिटी-एनसीपीए म्यूजिक स्काॅलरशिप के सातवें संस्करण के लिए आवेदन आमंत्रित

सिटी-एनसीपीए म्यूजिक स्काॅलरशिप के सातवें संस्करण के लिए आवेदन आमंत्रित

 2015 के संस्करण में हिंदुस्तानी संगीत: गायन-धु्रपद व खयाल, वादन-तबला व पखावज में एडवांस ट्रेनिंग के लिए स्काॅलरशिप्स दी जाएंगी
मुंबई।  नेशनल सेंटर फाॅर परफाॅर्मिंग आट्र्स (एनसीपीए), मुंबई और सिटी इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से सिटी-एनसीपीए म्यूजिक स्काॅलरशिप के 7वें संस्करण के लिए आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। यह स्काॅलरशिप सिटी-एनसीपीए गुरू शिष्य प्रोग्राम के संरक्षण के अंतर्गत हिंदुस्तानी संगीत (वर्तमान संस्करण के लिए) में एडवांस ट्रेनिंग के लिए दी जाती है। इस प्रोग्राम का लक्ष्य हिंदुस्तानी संगीत को सहेजना और उसे अगली पीढ़ी तक पहुंचाना है।
2015 के संस्करण की खास बात यह है कि इसमें हिंदुस्तानी संगीत: गायन-धु्रपद व खयाल और  वादन-तबला व पखावज में एडवांस ट्रेनिंग के लिए स्काॅलरशिप दी जा रही है।अपनी शुरुआत से ही सिटी-एनसीपीए म्यूजिक स्काॅलरशिप प्रोग्राम ने अपना ध्यान देश में हिंदुस्तानी संगीत के मुख्य तत्वों को मजबूती प्रदान करने और प्रोत्साहन देने पर केन्द्रित किया है। इस साल कार्यक्रम का लक्ष्य 18 से 28 वर्ष की आयु के नौ स्काॅलर्स को चिन्हित कर उन्हें एक साल (2015-2016) की स्काॅलरशिप देकर सहयोग करना है।
यह स्काॅलरशिप हिंदुस्तानी संगीतः वादन – तबला व पखावज और गायन – धु्रपद व खयाल में एडवांस ट्रेनिंग के लिए दी जाएगी। सिटी-एनसीपीए गुरू शिष्य स्काॅलरशिप प्रोग्राम का यह सातवां वर्ष है और अभी तक इसके जरिये 11 स्काॅलर्स की मदद की गई है। इन स्काॅलर्स ने स्काॅलरशिप से संगीत में महारत प्राप्त की और अपने हुनर को निखारा।
साथ ही भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रति जागरूकता और रुचि में भी बढ़ोतरी हुई है।लंबे समय से चली आ रही अपनी साझेदारी के माध्यम से सिटी और एनसीपीए इस बात को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं कि वे भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण, पोषण और प्रसार करते रहेंगे। इसलिए इनके निम्नलिखित चारों संयुक्त कार्यक्रमों के मूल में गुरू-शिष्य परंपरा को बरकरार रखा-
1.  ‘सिटी-एनसीपीए गुरू-शिष्य प्रोग्राम‘ जोकि जानेमाने गुरूओं को सहयोग प्रदान करता है। यह गुरू म्यूजिकल आर्ट फाॅर्म में अपनी विशेषज्ञता के क्षेत्र में शिष्यों को निखारने का काम करते .
2. ‘सिटी-एनसीपीए म्यूजिक स्काॅलरशिप‘ संगीत के योग्य छात्रों की भारतीय शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में महारत हासिल करने में मदद .
3. ‘सिटी-एनसीपीए आदि अनंत‘ एक ऐसा ट्रैवेलिंग म्यूजिक फेस्टिवल है जो व्यापक पैमाने पर समाज को एक ही मंच पर भारतीय शास्त्रीय संगीत के उस्तादों के साथ ही साथ आगामी संगीतकारों का अनुभव करने का अवसर प्रदान करता है.
4. ‘सिटी-एनसीपीए म्यूजिक फाॅर किड्स‘ इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों में संगीत के प्रति रुचि पैदा करना है।
आवेदन प्रक्रिया:
प्रतिभागियों को अपना लिखित आवेदन एक लिफाफे में रखकर ‘सिटी-एनसीपीए स्काॅलरशिप फाॅर इंडियन म्यूजिक‘ लिखकर नेशनल सेंटर फाॅर द परफाॅर्मिंग आट्र्स, नरीमन प्वाइंट, मुंबई 400021 पर भेजना होगा अथवा प्रतिभागी 31 दिसंबर 2015, समापन तिथि से पहले अपने आवेदन  ईमेल कर सकते हैं। आवेदन में अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के साथ प्रतिभागी का नाम, पता, संपर्क
नंबर, ईमेल आईडी, संगीत शिक्षक/गुरू, प्रशिक्षण की अवधि और उपलब्धियों/पुरस्कारों की जानकारी और परफाॅर्मेंस जरूर होना शाॅर्टलिस्ट किए गए प्रतिभागियों को ईमेल या टेलीफोन द्वारा सूचित किया जाएगा। उन्हें जनवरी 2016 के आखिर में आॅडिशन के लिए एनसीपीए, मुंबई में प्रस्तुत होना होगा। एक वर्ष के लिए स्कालरशिप की राशि 90,000 रुपए होगी। इसके बाद विद्यार्थियों को संबंधित शिक्षक/संस्थान से प्रशिक्षण के लिए माॅनेटरी रूप में स्काॅलरशिप उपलब्ध कराई जाएगी।

 

Check Also

आईसीयू में ‘इंद्रावती’ और एक नदी की मौत के मायने

“पृथ्वी दिवस” पर विशेष लेख: मिनी नियाग्रा के नाम से प्रसिद्ध बस्तर का चित्रकोट जलप्रपात ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *