Home / कॅरियर / लेख

लेख

मतभेद बनाम मनभेद

मतभेद और मनभेद दो ऐसे शब्द हैं, जिनकी आवाज में भले एकरूपता का आभास होता है, लेकिन परिणाम में ये बिल्कुल एक दूसरे के प्रतिकूल हैं। किसी के प्रति हमारा वैचारिक अंतर मतभेद कहलाता है। जिसकी वजह से हम उसके विचारों के अतिरिक्त उसके हर निर्णय व तथ्य को स्वीकार ...

Read More »

महाजनी खाते” से निकली किसानों की फर्जी लाटरी बनाम “जीरो बजट खेती”

*जीरो बजट खेती ,नाम में ही खोट है,* *10,000 और किसान उत्पादक संगठन बनाने की घोषणा, जबकि पहले के किसान उत्पादक संगठन बदहाल पड़े हैं।* कैसे होगी किसानों की आय 2022 में दोगुनी? यक्ष प्रश्न  कल भारत सरकार की ओर से वित्त मंत्री ने देश का बजट 2019 पेश किया। ...

Read More »

चिंताजनक है चुनावी बयानों का गिरता स्तर

हाल में संपन्‍न हुए लोकसभा चुनाव अभियान के दौरान कुछ नेताओं ने ऐेेसी-ऐसी टिप्पणियां की, जो हमारी संस्कृति के बिल्कुल खिलाफ थे। मतदाताओं का रुझान अपने पक्ष में करने के लिए कुछ राजनेताओं ने सार्वजनिक चिंताओं के व्‍यापक मामलों पर ध्‍यान केंद्रित करने की जगह व्‍यक्तिगत हमले किये। यह बेहद ...

Read More »

फिर धोखे के शिकार हो रहे हैं किसान

# देश की घटती हुई विकास दर तथा दिन प्रतिदिन बढ़ती बेरोजगारी, आईसीयू में पड़ी खेती तथा आत्महत्या कर रहे किसान, अब नहीं रहे चुनावी मुद्दे. # देश का समग्र विकास तथा राम मंदिर जैसे टिकाऊ मुद्दे कब और कहां दफन हो गए पता नहीं चल रहा. # गरीबी-विकास, राम-रोटी-रोजगार, ...

Read More »

आईसीयू में ‘इंद्रावती’ और एक नदी की मौत के मायने

“पृथ्वी दिवस” पर विशेष लेख: मिनी नियाग्रा के नाम से प्रसिद्ध बस्तर का चित्रकोट जलप्रपात अंततः सूख गया, एक सप्ताह तक एक बूंद पानी नहीं,। क्षेत्र के पुराने जानकारों का कहना है कि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। इस नीले ग्रह में मानव समाज को बचाना है तो हमें अपने ...

Read More »

राजनीतिक गुणों को नहीं अपना पा रहा अग्रवाल समाज

देखने को मिल रहा है कि अग्रवाल समाज राजनीति में बहुत पीछे होता जा रहा है। इस पर जब मैंने चिन्तन मनन किया तो एक बात समझ में आई कि हम आजकल के जो राजनीतिक गुण हैं, उनको नहीं अपना पा रहे हैं, जबकि अग्रवाल समाज के कुलप्रवर्तक महाराजा अग्रसेन ...

Read More »

हिन्दी दिवस पर डॉ. शीतला प्रसाद दुबे जी का विशेष लेख

14 सितम्बर से हिन्दी-दिवस के समारोह आरंभ हो जाएंगे। एक बार फिर से विश्व विद्यालयों,विद्यालय-महाविद्यालयों,राजभाषा विभागोंऔर सरकारी तथा गैर-सरकारी संस्थाओं द्वारा हिन्दी का गुणगान किया जाएगा।चारों ओर उत्सव के माहौल में सितम्बर माह को हिन्दी के हवाले कर दिया जाएगा,क्योंकि अक्तूबर से अगस्त तक तो अंग्रेजी के पुराने राग पर ...

Read More »

अंधविश्वास फैलाते टीवी सीरियल और कानून की लाचारी  

डॉ. कनक लता तिवारी आज मैं टीवी सेरिअल्स के बारे में बोलना चाहती हूँ जो समाज में अंधविश्वास की जड़ें जमा रहे हैं .हमारे पूर्वजों ने अंधविश्वास के विरुद्ध जो लड़ाई लड़ी वह अब बेकार हो रही है क्योंकि टीवी एक विसुअलमाँध्यम है और आँखों देखी का प्रभाव  आप पर ...

Read More »

जीवन के उच्च आदर्श

 अजीत कुमार राय जब कभी हम जीवन के उच्च आदर्श के बारे सोचते हैं, तो हमारे मनमस्तिष्क में मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं विनोबा भावे जैसे महापुरूषों के व्यक्तित्व उभरकर सामने आते हैं, जिन्होंने न केवल अपने जीवन में आदर्शों को पूरी निष्ठा के साथ जिया, अपितु औरों ...

Read More »

आईएमटी ने बनाया रिकार्ड

मुंबई : भारत के बी-स्कूल आईएमटी गाझियाबादने ५३५ छात्राओं को रोजगार दिलाते हुए प्लेसमेंटकार्यक्रम में रिकार्ड स्थापित किया है| यह रिकार्ड बनाते हुए आईएमटीव्दारा इसके पहले के रिकार्डभी तोड दिए है| माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, लोरीएल, जेपी मार्गन, असेंच्यूएर, एसएपी, इन्व्हेसमेंट बैंकिंग क्षेत्र की अमरिकन एमएनसीगोल्डमन सैच्स, डेलॉइट, क्रेडीट सुइस, नोवार्तीस, ब्रिटानीया और पीडब्ल्यूसी यह प्रमुख बहुराष्ट्रीय ...

Read More »